DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीपीएल परिवार: शहरी क्षेत्रों में 10 लाख से अधिक

शहरी क्षेत्रों में गरीबी रखा से नीचे (बीपीएल) के परिवारों का चयन हो गया है। इनकी संख्या 10,18,647 है। यह संख्या राज्य सरकार के अनुमान से दो लाख अधिक है। नगर विकास विभाग के सर्कुलर के आधार पर खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने लाभार्थियों को अगस्त से कूपन के माध्यम से प्रति माह 25 किलो अनाज और 2.5 लीटर किरासन उपलब्ध कराने का निर्णय किया है। हालांकि अनुमान से अधिक बीपीएल परिवारों के लिए अनाज जुटाने में सरकार को खासी परशानियों का सामना करना पड़ेगा।ड्ढr ड्ढr दरअसल विभाग की तैयारी शहरी क्षेत्र में 8 लाख परिवारों समेत कुल 1.21 करोड़ बीपीएल परिवारों के लिए ही है। दूसरी ओर शहरी और ग्रामीण बीपीएल परिवारों को मिलाकर राज्य में लाभार्थियों की संख्या 1,23,5हो गयी है। नयी बीपीएल सूची के तहत 1.21 करोड़ परिवारों के लिए हर माह 4.23 लाख टन अनाज की जरूरत है लेकिन केन्द्र से मात्र 2.28 लाख टन ही अनाज मिल रहा है। नतीजतन शेष अनाज के लिए राज्य सरकार को सालाना 878 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। अब दो लाख अतिरिक्त परिवारों के लिए और भी अधिक राशि जुटानी पड़ेगी। सूत्रों के अनुसार जल्द ही कोलकाता के सरस्वती प्रस को लाभार्थियों के राशन और किरासन कूपन छापने का निर्देश दिया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बीपीएल परिवार: शहरी क्षेत्रों में 10 लाख से अधिक