अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवाया शीश, ली आशिष

भक्तों की श्रद्धा से शुक्रवार को गुरु महिमा आलोकित हुई। शहर में गुरु पूर्णिमा उत्सव धूमधाम से मनाया गया। महर्षी मेंहीं आश्रम, चुटिया में आश्रम के स्वामी निर्मला नंद जी ने उपस्थित भक्तों को अपना अशीर्वचन प्रदान करते हुए गुरु की महिमा का गुणगान किया।ड्ढr श्रीश्री मुक्तेश्वर धाम (पागल बाबा आश्रम), कोकर में श्रद्धालुओं ने पूजा-पाठ कर सदगुरु पागल बाबा के श्रीचरणों में अपनी श्रद्धा अर्पित की । कल्याणी मां के सानिध्य में पुजारी प्रदीप चटर्ाी ने पूजन-अनुष्ठान संपन्न कराया। अंत में भक्तों ने एक पांत में बैठकर गुरु का प्रसाद ग्रहण किया। शैलेश सिन्हा, अजित कुमार, कृष्णा वर्णवाल, निरांन प्रसाद, मनोहर चौधरी, अनिल कुमार, प्रमोद कुमार, राजेश दास, गायत्री देवी, निशा, सोनी और चंदा ने कार्यक्रम के सफल संचालन में अपना योगदान दिया।ड्ढr श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर में गुरुदेव रामानुजाचार्य स्वामी, भगवानदासाचार्य जी का पूजन शास्त्रोक्त विधि से किया गया। साथ ही भजन-कीर्तन और सामूहिक विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ किया गया। जन स्मृति भवन, रातू रोड में शुक्रवार को आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्यों ने गुरु श्रीश्री रविशंकर जी का पूजन किया। साथ ही भजन-कीर्तन कर अपनी श्रद्धा अर्पित की।ड्ढr प्रभु प्रेमी संघ का कार्यक्रम अग्रसेन भवन में शाम चार बजे से हुआ। भक्तों ने सदगुरु पूनापीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि जी का पूजा-अर्चना की। इसके बाद भजन और सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। रामकृष्ण मिशन आश्रम में सुबह आठ बजे से गुरु पूजन का कार्यक्रम शुरू हुआ। इसके बाद आश्रम के सचिव स्वामी शशांकानंद जी ने उपस्थित भक्तों को अपना अशीर्वचन प्रदान किया।ड्ढr बापू जी सत्संग भवन, लालजी हीराी रोड में शाम चार बजे गुरु पूर्णिमा उत्सव मनाया गया। दारोगा सिंह, सुबोध जायसवाल, पप्पू जी और इंद्रदेव शर्मा ने कार्यक्रम के सफल संचालन में अपना योगदान दिया।ड्ढr इसके अलावा माता अमृतानंद सेवा समिति, योगदा आश्रम, गायत्री शक्ित पीठ, बस स्टैंड धुर्वा, राम मंदिर, अपर चुटिया, एमआरएस श्रीकृष्ण प्रणामी ट्रस्ट, विश्व जागृति मिशन सहित शहर के विभिन्न धार्मिक और सामाजिक संगठनों के द्वारा गुरु पूजन और सत्संग का आदि का आयोजन गुरु पूर्णिमा के अवसर पर किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नवाया शीश, ली आशिष