अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आठ प्रतिशत की विकास दर कायम रखेगा भारत : आईएमएफ

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने कहा है कि वैश्विक स्तर पर जारी आर्थिक मंदी के बावजूद भारत वर्ष 2008-0े दौरान आठ प्रतिशत की दर से विकास करेगा। वर्ष 2007 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर प्रतिशत थी। आईएमएफ के मुताबिक इस वर्ष पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था औसतन 4.1 प्रतिशत की दर से विकास करेगी। इस दौरान तमाम देशों की अर्थव्यवस्थाएं ऋण की कमी से प्रभावित रहेंगी। आईएमएफ ने गुरुवार को कहा कि विशेष रूप से उभरती हुए अर्थव्यवस्थाआें पर मुद्रास्फीति के प्रभाव की वजह से इस वर्ष दूसरी छमाही में आर्थिक परिस्थितियां बहुत ज्यादा उत्साहजनक नहीं रहेंगी। आईएमएफ के ‘वर्ल्ड इकोनॉमी आउटलुक’ (डब्ल्यूईओ) ने कहा, ‘‘वैश्विक अर्थव्यवस्था इन दिनों मुश्किल दौर से गुजर रही है। समृद्ध अर्थव्यवस्था वाले देशों से मांग में कमी और बढ़ती मुद्रास्फीति ने विकासशील देशों की अर्थव्यवस्थाओं की कमर तोड़ दी है।’’ आईएमएफ ने उम्मीद जताई है कि इस वर्ष दूसरी छमाही में दुनिया की अर्थव्यवस्था की विकास दर काफी धीमी रहेगी। वर्ष 200में धीरे-धीरे इसमें सुधार आएगा। अपने नवीनतम पूर्वानुमान में डब्ल्यूईओ ने विशेष रूप से उभरती अर्थव्यवस्था वाले देशों में मुद्रास्फीति और बढ़ने की भी आशंका जताई है। डब्ल्यूईओ के मुताबिक वैश्विक स्तर पर आर्थिक विकास दर में गिरावट आगे भी जारी रहेगी। संगठन ने कहा कि वर्ष 2007 में पूरी दुनिया की विकास दर जहां पांच प्रतिशत थी, वहीं वर्ष 2008 में यह 4.1 प्रतिशत रह जाएगी। वर्ष 200में इसके 3.प्रतिशत के स्तर तक चले जाने की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘आठ प्रतिशत की विकास दर कायम रखेगा भारत’