अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घोड़े से बातचीत

खबरें आ रही हैं, दिल्ली में हार्स टड्रिंग हो रही है, एक-एक की कीमत पच्चीस करोड़ लग रही है। बास ने कहा, सीधे स्पाट से खबर लाआे। सो यह खाकसार निकल पड़ा कुछ घोड़ों से बातचीत करने के लिए। मुश्किल से पुलिस के एक अस्तबल में घोड़े मिले, टीवी पर फैशन शो देख रहे थे, कुछ चारा खा रहे थे और कुछ च्यवनप्राश। वे सब लेटस्ट खबरों पर डिस्कशन कर रहे थे। एक घोड़ा बता रहा था कि झारखंड मंे चारा घोटाला कांड में कार्ट ने आरोपियों की सजा तय करने का काम शुरू कर दिया। बताने वाला घोड़ा नया बालक टाइप था, सुनने वाला पुराना बुद्धिजीवी टाइप था, कोई रिएक्शन नहीं दिया, कंधे उचकाकर बोला- खुश ना हो बेटा, अभी तो बहुत कोर्टों में जायगा, यह फैसला। सुप्रीम कार्ट का फैसला जब तक आयेगा, तब तक तेरे परनाती यहां चारा खा रहे होंगे। महाराणा प्रताप के चेतक के जमाने का एक केस अब भी कोर्ट में चल रहा है। खैर, मैंने तो अपनी बात शुरू की - सवाल- देखिये लेफ्ट वाले कह रहे हैं कि पच्चीस करोड़ मिल रहे हैं। घोड़ों के तो मजे आ लिये।ड्ढr घोड़ा- सुन तो हम भी रहे हैं। हम तो यह कह रहे हैं कि इसके आधे में भी हम तो राजी हैं। एनिमल राइट्स के नाम पर कई एनजीआे चल रहे हैं, वो ही खा जाते हैं। हमारी शिकायत ऊपर वालों तक पहुंचाइये कि हार्स ट्रेडिंग के करोड़ों में हम को एक भी नहीं मिला। सवाल- देखिये, कहने वाले जिम्मदारे लोग हैं। ऐसे ही थोड़े ही कोई कह देगा। अभी इनकम टैक्स वाले भी आते होंगे, आपसे वसूली के लिए। पच्चीस करोड़ आप ऐसे ही थोड़े रख लेंगे।ड्ढr घोड़ा- यह बहुत दुखद है। नेता खा जाते हैं, किसी केा खबर नहीं होती है। हमें केाई रकम नहीं मिली है और फिर भी हल्ला हो लिया है। यह घोड़ा राइट्स का हनन है। हमें पच्चीस करोड़ रुपये मिलने ही चाहिए। आप दिलवाइये(चार घेाड़ों ने मुझे जकड़ लिया)। सवाल- पच्चीस करोड़ तो मुझ तब मिलते, जब मैं घेाड़ा होता। सीनियर नेताआंे ने कहा है कि घोड़े ही हकदार हैं। मेरा तो हक ही नहीं बनता। मुझ प्लीज छोड़िये और संसद जाकर पता कीजिय कि आपके पच्चीस करोड़ कहां गये। घोड़े संसद की तरफ निकले, पर उन्हें संसद के गेट पर ही रोक लिया गया है। इधर मुझ समझ नहीं आ रहा है कि हार्स ट्रेडिंग में हार्स की भागीदारी ही क्यांे नहीं होने दी जा रही है। मेनका गांधीजी सुन रही हैं ना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: घोड़े से बातचीत