DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर से जनता का विश्वास हासिल करे यूपीए : ममता

विश्वास मत हासिल करने के लिए सांसदों की खरीद-फरोख्त के जो आरोप लग रहे हैं, उससे तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी काफी दुखी हैं। उनकी राय में कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए गंठबंधन को संसद में नहीं जाकर नए सिर से जनता के पास ही जाना चाहिए। सीधे उसका ही विश्वास हासिल करना चाहिए। शुक्रवार को संवाददाताओं से बातचीत में ममता बनर्जी ने भाजपा नेता अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्ववाली पूर्ववर्ती एनडीए सरकार को सांसदों की खरीद-फरोख्त के मामले में क्लीन चिट भी थमा दिया। एनडीए सरकार में रलमंत्री रह चुकीं ममता बनर्जी ने कहा कि विश्वासमत हासिल करने के लिए सांसदों की खरीद-फरोख्त की बातें सुन कर काफी पीड़ा होती है। नैतिकता आधारित राजनीति के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताते हुए उन्होंने याद दिलाया कि कैसे हाल में भ्रष्टाचार के आरोप में 10 सांसदों को अपने पद से हाथ धोना पड़ा था। तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार महा एक वोट के लिए संसद में हार गयी थी। अगर उसने मूल्यों से समझौता कर लिया होता, तो वह और पांच सांसद जुटा कर विश्वास मत हासिल कर सकती थी। पर उसने ऐसा नहीं किया। जब उनसे पूछा गया कि वह यूपीए सरकार के विश्वास मत हासिल करने के दौरान वोट देंगी कि नहीं, उन्होंने कहा कि यह अभी तय नहीं है। उनकी पार्टी 21 जुलाई की शहीद दिवस रैली को लेकर अभी व्यस्त है। रैली के बाद ही तय होगा कि वह 22 को दिल्ली जाएंगी या नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिर से जनता का विश्वास हासिल करे यूपीए