DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजधानी से पानी निकालेगा सिंचाई विभाग

अब सिंचाई विभाग संभालेगा राजधानी में जलनिकासी व्यवस्था की कमान। शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में 1, अणे मार्ग में हुई बैठक में नगर विकास और जल पर्षद के इंजीनियरों की बोलती बन्द होती देख सिंचाईकर्मियों को यह जवाबदेही सौंपी गयी। राजेन्द्रनगर और कंकड़बाग में मोबाइल पम्प से पानी निकाला जायेगा। सड़क के किनार बने तमाम गड्ढे भर जायेंगे। राजधानी में नयी बनी सड॥कों पर ड्रनेज व्यवस्था की जांच की जिम्मेदारी पीडब्ल्यूडी और पटना के डीएम को सौंपी गयी है। शनिवार से जलजमाव वाले सभी इलाकों में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव और फॉगिंग मशीन का इस्तेमाल होगा। स्लम बस्तियों में डॉक्टर डायरियारोधी दवाएं लेकर जायेंगे। अधिक जलजमाव वाले इलाकों में टैंकर से पेयजलापूर्ति होगी।ड्ढr ड्ढr बैठक में नगर निगम और जल पर्षद के अभियंताओं की बोलती बन्द थी। वे बता ही नहीं पा रहे थे कि पानी निकलेगा या नहीं। नाराज मुख्यमंत्री राजधानी के नक्शे पर हाथ रखते हुए बोले ‘ही इज गेटिंग कन्फ्यूज।’ हमारा ध्यान राजेन्द्रनगर पर है। अब यह काम सिंचाई विभाग ही संभालेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि एनबीसीसी के घटिया काम, एक निर्माण एजेंसी (तांतिया) की धोखाधड़ी और केन्द्र सरकार में शामिल बिहार के एक राजनीतिक दल के कारण लोगों को अधिक कष्ट हो रहा है। आगामी चुनाव में पूर तथ्यों के साथ उस राजनीतिक दल को बेनकाब किया जायेगा। उन्होंने कहा कि शहर का अनियोजित बसाव जलनिकासी में बाधक है। इसके दीर्घकालीन निदान पर काम जारी है लेकिन भारी वर्षा ने स्थिति खराब कर दी है। बकौल श्री कुमार ‘बारिश का भयावह रूप देखकर तो एक रात मेरी नींद ही उड़ गयी। लगता है पटना अब चेरापूंजी बन रहा है।’ बैठक में पथ निर्माण, पीएचईडी, नगर विकास विभाग के मंत्रियों समेत सभी शीर्ष अधिकारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजधानी से पानी निकालेगा सिंचाई विभाग