DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाठशाला

शिक्षा विभाग से हटे तो क्या हुआ? शिक्षक वाला गुण तो आ ही गया। उस दिन कुछ मंत्री उनकी पाठशाला में हाजिर हुए। विषय था कि सदन के भीतर विरोधियों से कैसे निबटा जाए। गुरुाी जवाब दे रहे थे- सवालों का लंबा उत्तर बनाइए। सवाल आए तो सीधे जवाब मत दीजिए। जवाब इतना लंबा रहे कि सवाल करनेवाला सदस्य उब कर हंगामा करने लगे। ऐसे मौके पर बैठ जाइए। शांति कायम हो जाए तो जवाब देना शुरू कीािए। ध्यान रहे कि दोबारा जवाब देने के वक्त फिर से शुरुआत कीािए। शिष्यों को शंका हुई। मंत्रीजी ने निदान किया-हम तो इसी तरह से निबटते रहे हैं।ड्ढr ड्ढr फायदाड्ढr वे भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। दुबली काया को लेकर परशान रहते हैं। मगर यही दुबली काया एक दिन राजभवन में बहुत काम आई। महामहिम शपथ ले रहे थे। अगली कतार में उनके बैठने का इंतजाम था। वे पहुंचे कि तीन लोगों के लिए बने सोफा पर दो भीमकाय मंत्रीजी पहल से विराजमान थे। उन्होंने इधर-उधर देखा। पाया कि पहली कतार में कहीं जगह नहीं है। मजबूरी थी। नेताजी दोनों मंत्रियों के बीच धंस गए। यकीन मानिए कि तीनों को तकलीफ नहीं हुई। नेताजी ने अपनी काया की जमकर तारीफ की। दुबली काया का फायदा जो मिला।ड्ढr ड्ढr सहाराड्ढr कभी-कभी प्रकृति भी पालीटिक्स करने लगती है। केंद्र सरकार के एक मंत्री उत्तर बिहार के दौर पर थे। गाड़ी भली-चंगी थी। समस्तीपुर जिले में एक जगह वह कीचड़ में फंस गई। साथ चल रही पुलिस की जीप के ड्राइवर ने मंत्री की गाड़ी को खींच कर बाहर निकालने में लाचारी जाहिर की। उसी वक्त एक दूसरी गाड़ी आई। उसने मंत्रीजी की गाड़ी को बाहर निकाला। मंत्रीजी ने धन्यवाद दिया। उसने धन्यवाद नहीं लिया। क्यों कि गाड़ी खींच कर निकालनेवाला बंदा लालटेन पार्टी का था। उसका तर्क था कि कांग्रेस को खींच कर आगे बढ़ाना लालटेन पार्टी का दायित्व है।ड्ढr ड्ढr क्लबड्ढr राज्य सरकार चाहे तो अपने जेलों का इस्तेमाल हेल्थ क्लब की तरह भी कर सकती है। इसके लिए वह पटना के एक चर्चित बिल्डर का सहारा ले सकती है। बिल्डर मोटा-तगड़ा था। रुपया दबाने के लिए एक दबंग एमएलए से पंगा ले बैठा। दांव उल्टा पड़ा। हत्या के आरोप में जेल जाना पड़ा। छह महीने की जेल यात्रा से वापस लौटा तो एकदम से छरहरा। छह महीने में उसका वजन पैंतीस किलो कम हो गया है। जेलवाले हेल्थ क्लब का विज्ञापन भी आसान होगा-शर्माजी जेल जाने से पहले और लौटने के बाद। बस दो अदद तस्वीर की जरूरत पड़ेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज दरबार