अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तंत्र-मंत्र के भरोसे गद्दी बचाने की मुहिम

ॅरियर बचाने और प्रमोशन पाने का सवाल हो तो लगता है, आदमी हर नुस्खे आजमाता है। विश्वास मत को लेकर नेता ऐसा कर रहे हैं तो आश्चर्य नहीं। आखिर उनके कॅरियर भी तो दांव पर हैं! जो सरकार के पक्ष में हैं, उन लोगों ने महाकाल की नगरी उज्जन से लेकर मिर्जापुर तक में तांत्रिक अनुष्ठान करवाए हैं। (अब एटमी ऊरा-ौसी वैज्ञानिक बातों के बरक्स यह अजीब लगे तो लगे!) उधर, यूपी की मुख्यमंत्री मायावती भले ही पहले ब्राह्मणवाद को लेकर बहुत कुछ कहती रही हों, अब जब ‘सर्वजन समाज’ की बात करनी लगी हैं तो उनके समर्थक कहां पीछे रहने वाले। उन लोगों ने बहनजी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए विंध्यधाम में यज्ञ करने का मुहूर्त निकलवाया है।ड्ढr ड्ढr उज्जन के श्मशान घाट में किए गए तांत्रिक अनुष्ठान के आयोजक एक केंद्रीय मंत्री जी हैं। इसकी पूर्णाहुति शुक्रवार की रात की गई। यह अनुष्ठान उज्जन के भय्यू महाराज और राजगढ़ के मुकेश महाराज के साथ दर्जन भर से अधिक तांत्रिकों ने किया। इसके लिए दिल्ली से फोन पर आग्रह किया गया था। फोन करने वाला केन्द्रीय मंत्री कौन था, यह खुलासा नहीं हुआ है। श्मशान घाट स्थित भैरव मंदिर पर हवन और जलती चिता पर तंत्र साधना की गई। सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के चित्रों को सामने रखकर शव साधना और हवन किया गया। सभी चित्रों का हवन की भस्म से तिलक भी किया गया। भय्यू महाराज को उम्मीद है कि साधना जरूर सफल होगी। उधर, झामुमो के एक कार्यकर्ता के निर्देश पर मिर्जापुर के विंध्यवासिनी धाम के एक तीर्थ पुरोहित के मकान में भी गोपनीय तरीके से अनुष्ठान कराया जा रहा है।ड्ढr ऐसे में बसपा कार्यकर्ता कैसे पीछे रहें? वे मायावती को प्रधानमंत्री बनाने के लिए 21 जुलाई को विंध्यधाम में सुबह आठ बजे से शतचंडी महायज्ञ करंगे। इसके लिए बसपाई 21 जुलाई को अष्टभुजा डाक बंगला के रैन बसेरा पर जुटेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तंत्र-मंत्र के भरोसे गद्दी बचाने की मुहिम