अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इन्वायरमेंटल स्टडीचा का नया फॉर्मेट तैयार

ूलों के बाद अब कॉलेजों में इन्वायरमेंटल स्टडीा की अनिवार्य तौर पर पढ़ाई की तैयारी कर ली गयी है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के आलोक में यूजीसी ने इसका सिलेबस तैयार कर लिया है और इसकी किताबें भी आ गयी हैं। इसे देश के सभी विश्वविद्यालयों में लागू किया जायेगा।ड्ढr यूजीसी अध्यक्ष एस थोराट के अनुसार यूनिवर्सिटी को निर्देश दिये जा रहे हैं कि वे इस कोर्स को एकेडेमिक कौंसिल से पारित करा कर पाठ्यक्रम में शामिल करं। कोर्स का सिलेबस भारती विद्यापीठ के पर्यावरण विशेषज्ञ प्रो आइ भरूचा की अध्यक्षता में गठित विशेषज्ञों की समिति ने तैयार किया है। समिति में प्रो भरूचा के अलावा ओसमानिया यूनिवर्सिटी के प्रो सी मनोहराचरी, अन्ना यूनिवर्सिटी के एस थायुमानवन, गुवाहाटी यूनिवर्सिटी के डीसी गोस्वामीवन व पर्यावरण विभाग के आर मेहता एवं यूजीसी के एनके जन शामिल थे। थोराट के अनुसार पहले से कुछ यूनिवर्सिटी में इन्वायरमेंटल स्टडी के कोर्स चलाये जा रहे हैं, लेकिन तैयार कोर्स लागू होने से पाठ्यक्रम बेहतर होगा।ड्ढr उन्होंने बताया कि यूजीसी द्वारा तैयार कोर्स छह माह की अवधि का है। इसे आठ यूनिट में बांटा गया है, जिसमें 50 लेक्चर होंगे। क्लासरूम अध्ययन के साथ फील्ड वर्क भी शामिल है। प्रथम सात यूनिट में 45 क्लासरूम लेक्चर हैं। यूनिवर्सिटी को अपनी सुविधानुसार बाहर से विशेषज्ञ बुलाने की अनुमति होगी। इसकी परीक्षा वार्षिक परीक्षा के साथ ही सौ अंकों की होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इन्वायरमेंटल स्टडीचा का नया फॉर्मेट तैयार