अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सागर की बेटी का आसमान छूने का जज्बा

मध्यप्रदेश के सागर जिले की पारुल साहू ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउन्ट किलि मंजारो पर चढ़कर एक नया इतिहास रच दिया है। पारुल हर उस चोटी पर भारतीय तिरंगा फहराना चाहती है जो देश की शान में इजाफा करने वाला हो। पारुल के लिए असंभव को संभव बनाना ही जीवन का लक्ष्य है। पद्मश्री बछेन्द्री पाल के नेतृत्व में इंडो - अफ्रीका के संयुक्त दल ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउन्ट किलि मंजारो पर चढ़ने का अभियान शुरू किया तो बहुत कम लोगों को भरोसा था कि यह दल अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल हो पाएगा। 10 फुट ऊंची चोटी पर इस दल के पहुंचने को लेकर अफ्रीकी विशेषज्ञ भी संशय में थे। ऐसा इसलिए क्योंकि इस चोटी पर चढ़ना आसान नहीं है। इसकी वजह इस पहाड़ की चोटी का एकदम सीधा होना भी है। सागर के व्यवसायी संतोष साहू की बेटी पारुल साहू बताती हैं कि उनके दल में कुल दस सदस्य थे। इनमें नौ भारतीय और एक अफ्रीकी महिला शामिल थी। जब यह दल लगभग 18 हजार फुट की ऊंचाई पर पहुंचा तो ऑक्सीजन की कमी के चलते दो सदस्य बेहोश हो गए। इन स्थितियों में उनके दल को भी अपनी सफलता संदिग्ध नजर आने लगी, मगर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। बछेन्द्री पाल के निर्देश पर दल दो हिस्सों में विभक्त हो गया। आखिर में उनके दल ने 28 जून को माउन्ट किलि मंजारो पर भारतीय तिरंगा फहराने में सफलता हासिल कर ली। पारुल बताती हैं कि यह अभियान उनके दल के लिए कई मायनों में महत्वपूर्ण था क्योंकि इस चोटी पर चढ़ना कठिन माना जाता है और महिलाओं के वहां तक पहुंचने की कम ही लोग कल्पना करते थे। जब उनका दल चोटी पर पहुंचा तो वहां का तापमान शून्य से 20 डिग्री कम था। हाड़ कंपा देने वाली सर्दी और ऑक्सीजन की कमी भी उनके जज्बे को रोक नहीं पाई। पारुल अब तक माउन्ट खेलू, सियाचीन ग्लेशियर, केदार डूम, सहित आधा दर्जन पर्वत श्रृंखलाआें पर फतह हासिल कर चुकी हैं। उनका सपना एवरेस्ट पर सफलता पाने का है। पारुल ने मार्च को नीरज केशरवानी के साथ दाम्पत्य जीवन में प्रवेश किया था और एक माह बाद ही वे अपने अभियान पर निकल पड़ी थीं। उनके पति और सास ने उन्हें शुभकामनाआें के साथ अभियान पर भेजा और पारुल उसमें सफल होकर अपनी ससुराल भोपाल लौटी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सागर की बेटी का आसमान छूने का जज्बा