DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क निर्माण से कतराने लगीं केंद्रीय एजेंसियां

ेन्द्रीय एजेंसियां सूबे में सड़क निर्माण से कतराने लगी हैं। केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) के स्थानीय चीफ इंजीनियर सूबे के पथ निर्माण मंत्री के साथ निर्माणाधीन सड़क का निरीक्षण करने से मुकर गये हैं। मंगलवार को पथ निर्माण मंत्री प्रम कुमार ने संवाददाताओं को बताया कि अब तो केन्द्रीय एजेंसी के कर्ता-धर्ता भी अपनी जिम्मेवारी से भागने लगे हैं। सुलतानगंज-दर्दमारा सड़क के निरीक्षण के लिए 14 जुलाई को तिथि निर्धारित कर सीपीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर नहीं गये। हालांकि उन्होंने कहा कि पुन: एक दूसरी सड़क के निरीक्षण पर सहमति बनी है।ड्ढr ड्ढr विभागीय समीक्षा बैठक की जानकारी देते हुए श्री कुमार ने कहा कि केन्द्रीय एजेंसियों ने निर्माणाधीन सड़क को मोटरबुल बनाने से यह कहकर इंकार कर दिया है कि यह उनके इस्टीमेट में नहीं है। इससे परशान पथ निर्माण विभाग ने निर्माणाधीन सभी एसएच को अपने खर्चे से मोटरबुल बनाने का निर्णय किया है। साथ ही सभी एक्जीक्यूटिव इंजीनियरों को 25 लाख रुपए खर्च करने का अधिकार देते हुए सूबे की सभी सड़कों को मोटरबुल बनाने का निर्देश दिया गया है। चाहे वह एनएच हो, एसएच हो या जिला की मुख्य सड़कें (एमडीआर)। उन्होंने स्पष्ट कहा कि इंजीनियरों का अब यह बहाना नहीं चलेगा कि सड़क बन रही है, इसलिए वह खराब है। श्री कुमार ने कहा कि वे एनएच एवं एसएच की कार्य प्रगति से असंतुष्ट है। यह भी बताया कि श्रावणी मेला को देखते हुए मुंगेर-भागलपुर एवं सुलतानगंज-दर्दमारा सड़क को तुरंत गड्ढामुक्त करने का निर्देश दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सड़क निर्माण से कतराने लगीं केंद्रीय एजेंसियां