अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़पीड़ितों ने रेलवे लाइन काटी

डेढ़ पखवार से बाढ़ की मार झेल रहे रहुई प्रखंड के आधा दर्जन गांवों के लोगों ने मंगलवार की अहले सुबह सोहसराय हॉल्ट के समीप रलवे लाइन को काट डाली। फलत: बख्तियारपुर-राजगीर रलखंड पर रल परिचालन ठप हो गया। कटाव का विरोध करने पर ग्रामीणों द्वारा गैंगमैन की पिटाई करने की भी खबर है। मौके पर पहुंचे दानापुर रल मंडल के एडीआरएम राधेरमण ने घटना का जायजा लिया। वहीं पटना से हि ब्यू के अनुसार बिहार के बड़े हिस्से के साथ-साथ नेपाल के तराई वाले हिस्से में बारिश ने उत्तर बिहार की नदियों को खतरनाक बना दिया है। सूबे की एक दर्जन से अधिक छोटी-बड़ी नदियां लाल निशान से ऊपर बह रही हैं जबकि कई नदियों का जलस्तर खतर के निशान के काफी करीब है। नदियों के जलस्तर में वृद्धि के कारण कई जगहों पर सुरक्षा तटबंधों की स्थिति भी बिगड़ने लगी है। कई स्थानों पर उनमें रिसाव शुरू हो गया है। हालांकि जल संसाधन विभाग ने दावा किया है कि उसके सार तटबंध सुरक्षित हैं।ड्ढr ड्ढr मुजफ्फरपुर से का.सं. के अनुसार उत्तर बिहार की नदियों के किनार बांध, रिंग बांध, जमींदारी बांध समेत शहर को बचाने के लिए विभिन्न नामों से बांध बनाये गये हैं। लेकिन कटरा प्रखंड में बागमती नदी के पूर्वी किनार बना बांध किस विभाग का है बताने वाला कोई नहीं है। जल संसाधन विभाग के जनसंपर्क पदाधिकारी शुभचन्द्र झा ने सीतामढ़ी जिले के बेलसंड प्रखंड के चंदौली गांव में बागमती तटबंध को पूरी तरह सुरक्षित बताया है। उन्होंने कहा है कि मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट व कटरा प्रखंड में बागमती नदी के किनार विभाग के तटबंध का निर्माण नहीं हुआ है।ड्ढr ड्ढr अररिया से हि.टी. के अनुसार लगातार हो रही बारिश से बकरा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। मंगलवार को पलासी प्रखंड के एक दर्जन गांवों में नदी का पानी प्रवेश कर गया है। इसके अलावा सैकड़ों एकड़ भूमि पर पानी फैल जाने से उसमें लगी फसलें बर्बाद हो गयी है। शाहपुरपटोरी (समस्तीपुर) से नि.सं. के अनुसार गंगा व वाया नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है। सोमवार की रात वाया नदी का पानी कवि चौक के समीप एक दर्जन घरों में घुस गया।ड्ढr महुआराजापाकर (एसं.सं.सू.) के अनुसार हाजीपुर-महुआ रोड पर रानी पोखर के पास बना डायवर्सन सोमवार की देर शाम बह जाने से अफरा-तफरी मच गयी। काफी देर तक वाहनों का आवागमन ठप रहा। डेढ़ पखवार से बाढ़ की मार झेल रहे रहुई प्रखंड के आधा दर्जन गांवों के लोगों ने मंगलवार की अहले सुबह सोहसराय हॉल्ट के समीप रलवे लाइन को काट डाली। फलत: बख्तियारपुर-राजगीर रलखंड पर रल परिचालन ठप हो गया। कटाव का विरोध करने पर ग्रामीणों द्वारा गैंगमैन की पिटाई करने की भी खबर है। मौके पर पहुंचे दानापुर रल मंडल के एडीआरएम राधेरमण ने घटना का जायजा लिया। वहीं पटना से हि ब्यू के अनुसार बिहार के बड़े हिस्से के साथ-साथ नेपाल के तराई वाले हिस्से में बारिश ने उत्तर बिहार की नदियों को खतरनाक बना दिया है। सूबे की एक दर्जन से अधिक छोटी-बड़ी नदियां लाल निशान से ऊपर बह रही हैं जबकि कई नदियों का जलस्तर खतर के निशान के काफी करीब है। नदियों के जलस्तर में वृद्धि के कारण कई जगहों पर सुरक्षा तटबंधों की स्थिति भी बिगड़ने लगी है। कई स्थानों पर उनमें रिसाव शुरू हो गया है। हालांकि जल संसाधन विभाग ने दावा किया है कि उसके सार तटबंध सुरक्षित हैं।ड्ढr ड्ढr मुजफ्फरपुर से का.सं. के अनुसार उत्तर बिहार की नदियों के किनार बांध, रिंग बांध, जमींदारी बांध समेत शहर को बचाने के लिए विभिन्न नामों से बांध बनाये गये हैं। लेकिन कटरा प्रखंड में बागमती नदी के पूर्वी किनार बना बांध किस विभाग का है बताने वाला कोई नहीं है। जल संसाधन विभाग के जनसंपर्क पदाधिकारी शुभचन्द्र झा ने सीतामढ़ी जिले के बेलसंड प्रखंड के चंदौली गांव में बागमती तटबंध को पूरी तरह सुरक्षित बताया है। उन्होंने कहा है कि मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट व कटरा प्रखंड में बागमती नदी के किनार विभाग के तटबंध का निर्माण नहीं हुआ है।ड्ढr ड्ढr अररिया से हि.टी. के अनुसार लगातार हो रही बारिश से बकरा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। मंगलवार को पलासी प्रखंड के एक दर्जन गांवों में नदी का पानी प्रवेश कर गया है। इसके अलावा सैकड़ों एकड़ भूमि पर पानी फैल जाने से उसमें लगी फसलें बर्बाद हो गयी है। शाहपुरपटोरी (समस्तीपुर) से नि.सं. के अनुसार गंगा व वाया नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है। सोमवार की रात वाया नदी का पानी कवि चौक के समीप एक दर्जन घरों में घुस गया।ड्ढr महुआराजापाकर (एसं.सं.सू.) के अनुसार हाजीपुर-महुआ रोड पर रानी पोखर के पास बना डायवर्सन सोमवार की देर शाम बह जाने से अफरा-तफरी मच गयी। काफी देर तक वाहनों का आवागमन ठप रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाढ़पीड़ितों ने रेलवे लाइन काटी