अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक सुधार की उम्मीद से उद्योग जगत उत्साहित

मनमोहन सरकार के लोकसभा में विश्वास मत हासिल करने के बाद देश के विभिन्न वाणिज्य संगठनों ने आर्थिक सुधारों की उम्मीद जताई है। उद्योग जगत को आशा है कि चार से लटकी पड़ी सिुधार योजनाओं को पूरा करने में सरकार रुचि दिखाएगी। घरेलू कंपनियों को भारत-अमेरिका परमाणु करार और उसके बाद परमाणु ऊर्जा क्षेत्र में निवेश व कारोबार की असीम संभावनाएं नजर आने लगी हैं। देश के शीर्ष वाणिज्य एवं उद्योग मंडल (फिक्की) महासचिव अमित मित्रां ने कहा है कि परमाणु समझौते से भारतीय उद्योगों के लिए परमाणु ऊर्जा उत्पादन क्षेत्र में नवीन प्रौद्योगिकी हासिल करने के साथ-साथ कारोबार के भी दरवाजे खुल जाएंगे। उन्होंने कहा कि करीब 400 घरेलू कंपनियों को परमाणु ऊर्जा क्षेत्र में कारोबार की संभावनाएं उपलब्ध होंगी। उधर देश के दूसर बड़े उद्योग संगठन एसोचैम ने भी बदले राजनीतिक परिदृश्य में सात बिंदुओं का रिफॉर्म एजेंडा सरकार को सौंपा है। एसोचैम के अध्यक्ष सज्जन जिंदल ने बताया कि प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री को दिए एजेंडे में कृषि, लेबर पॉलिसी, इंश्योरंस, पेंशन फंड्स, नागरिक उड्डयन, रिटेल और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश विशेषकर प्रेस नोट 1 को शामिल किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आर्थिक सुधार कीआशा से उद्योग जगत उत्साहित