DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक क्रिकेटरों को मिलिट्री ट्रेनिंग

पाकिस्तान का क्रिकेट हमेशा से ही अनुशासनहीनता से जूझता रहा है। इसलिए टीम मैनेजमेंट ने गलत को सही करने के लिए खिलाड़ियों को किसी मिलिट्री बेस पर सख्त मिलिट्री टेनिंग देकर चैंपियंस ट्रॉफी के लिए तैयार करने का फैसला किया है। मैनेजर तलत अली ने बताया कि जिन खिलाड़ियों को चैंपियंस ट्रॉफी के संभावित दल में चुना गया है वे काकूल बेस में मिलिट्री फिािकल ट्रेनिंग स्कूल में रखे गए हैं और उन्हें सप्ताह भर के ट्रेनिंग कैम्प के दौरान मिलिट्री अनुशासन के हिसाब से चलना होगा। यह कैम्प 28 जुलाई को समाप्त होगा। तलत ने कहा ‘हर सुबह उन्हें मिलिट्री फिटनेस ट्रेनर की सहायता से हमार टीम ट्रेनर की देखरख में ट्रेनिंग दी जा रही है। खाना भी खिलाड़ी पूर ड्रेस कोड के साथ मेस में खा रहे हैं। यह तरीका इसलिए अपनाया गया है कि खिलाड़ियों में अनुशासन को बढ़ाया जा सके।’ पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने पिछले साल भी दक्षिण अफ्रीका में हुए 20-20 विश्व कप से पहले अबोताबाद के कैम्प में मिलिट्री टाइप ट्रेनिंग हासिल की थी। टीम इस टूर्नामेंट के फाइनल तक पहुंची थी। जहां उसे भारत ने हराया था। तलत ने कहा ‘ इस साल भी हमारा पहला टूर्नामेंट टोरंटो में चार देशों को 20-20 टूर्नामेंट है। हमें भरोसा है कि इस कैम्प से हमें भविष्य की चुनौतियों से निपटने में मदद मिलेगी।’ पाकिस्तान के राष्ट्रीय चयनकर्ता टीम मैनेजमेंट के साथ कल मुलाकात करंगे और 20-20 टूर्नामेंट के लिए टीम को अंतिम रूप देंगे। तलत ने कहा कि अभी तक सिर्फ तेज गेंदबाज उमर गुल ने कैम्प में गेंदबाजी नहीं की है, क्योंकि वह अभी तक पसलियों की चोट से जूझ रहे हैं। इसी तकलीफ की वजह से ही वह एशिया कप से बाहर हो गए थे। तलत ने कहा ‘लेकिन वह सुबह के सत्र में अयास कर रहे हैं। सही कहूं तो हम समय से पहले उन्हें गेंदबाजी के लिए कह कर उन्हें ज्यादा दबाव में नहीं लाना चाहते हैं।’ड्ढr चयनकर्ताओं ने 20-20 टूर्नामेंट के लिए 16 साल के खब्बू तेज गेंदबाज मोहम्मद अमीर को दिमाग में रखा हुआ है। क्योंकि उमर गुल के साथ फिटनेस की समस्याचल रही है और मोहम्मद आसिफ डोपिंग के आरोपों के कारण अनिश्चितकाल के लिए निलंबित चल रहे हैं।इस बात की भी चर्चा चल रही है कि तेज गेंदबाज शोएब अख्तर को 20-20 टूर्नामेंट के लिए टीम में 16वें सदस्य के रूप में शामिल कर लिया जाए। जिससे वह टीम के साथ रहकर खिलाड़ियों के साथ तालमेल बैठा सकें, आखिर उन्होंने फिटनेस और अनुशासनहीनता के कारण पाकिस्तान के लिए पिछले दिसंबर से कोई मैच नहीं खेला है। पाक बोर्ड ने शोएब अख्तर को काकूल के फिटनेस कैम्प के लिए इसलिए नहीं रखा क्योंकि उन्होंने यह महसूस किया कि उनकी फिटनेस की स्थिति स्पष्ट नहीं है और उन्हें कठोर ट्रेनिंग कार्यक्रम में झोंकना खतरा मोल लेने वाली बात रहेगी। सूत्रों ने यह भी बताया कि बोर्ड चाहता है कि शोएब पहले सात लाख रुपयों को जुर्माना भर, जो उन पर अपीलेट ट्राइब्यूनल ने लगाया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाक क्रिकेटरों को मिलिट्री ट्रेनिंग