अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरक्षा को चाक चौबंद करने में जुटा कोलंबो

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में अगले सप्ताह शुरू हो रहे 15वें दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (दक्षेस) सम्मलेन के दौरान चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के लिए 12 हजार अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात किए जा रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस उपमहानिरीक्षक निमल मेदिवाके ने गुरुवार को यहां पत्रकारों से कहा कि दो अगस्त से शुरू हो रहे दो दिवसीय सम्मलेन के लिए सुरक्षा एवं यातायात के सभी प्रबंध कर लिए गए हैं। आगामी 30 जुलाई से चार अगस्त तक शहर के कई मार्गो में परिवर्तन किया गया है। भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए अतिरिक्त सुरक्षा इंतजाम के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि डॉ. सिंह समेत सभी विदेशी प्रतिनिधिमंडल को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि किसी राष्ट्राध्यक्ष की नजदीकी सुरक्षा के लिए उनके निजी सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं तथा सुरक्षा एवं खतरे को देखते हुए सुरक्षाकर्मियों की संख्या निर्धारित की जाती है। मेदिवाके ने कहा कि संसद, बीएमआईसीएच, कोल्लूपितिया और किला क्षेत्र अत्यधिक सुरक्षा वाले क्षेत्र घोषित किए गए हैं और 30 जुलाई से चार अगस्त तक इन क्षेत्रों में विदेशी प्रतिनिधिमंडलों के अलावा किसी अन्य के इस्तेमाल की अनुमति नहीं है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि सम्मलेन के मद्देनजर लागू नई यातायात व्यवस्था से स्थानीय लोगों को परेशानी या असुविधा नहीं होगी। हालांकि पृथक राष्ट्र की मांग के लिए संघर्ष कर रहे तमिल विद्रोही संगठन लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) ने गत मंगलवार को एकतरफा संघर्षविराम की घोषणा की। लेकिन सेना ने इस प्रस्ताव को खारिज करते हुए विद्रोहियों के खिलाफ अपनी कार्रवाई जारी रखी है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक अफगानिस्तान और पाकिस्तान अपने नेताआें की सुरक्षा के लिए पुख्ता तैयारियों में जुट गया है। दक्षिण एशियाई देशों के इस संगठन में भारत, नेपाल, श्रीलंका, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बंगलादेश, भूटान और मालदीव शामिल हैं। गौरतलब है कि यह सम्मेलन मालदीव में आयोजित किया जाना था, लेकिन श्रीलंका के ब्रिटेन से मुक्त होने की 60वीं सालगिरह के मद्देनजर सभी सदस्य देशों ने इस सम्मलेन को कोलंबो में आयोजित करने का फैसला किया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुरक्षा को चाक चौबंद करने में जुटा कोलंबो