अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीरियल धमाकों से दहला बेंगलुरु

देश की सॉफ्टवेयर राजधानी बेंगलुरु शुक्रवार को एक क बाद एक हुए बम धमाकां स दहल उठा है। महा 15 मिनट के भीतर सात जगहों पर धमाके हुए। हालांकि बम की तीव्रता कम होने के कारण विस्फोट में दो की मौत हो गई जबकि अन्य 15 घायल हो गये। बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर शंकर बिदरी न कहा कि सार धमाके टाइमर बम से किये गये। अभी तक किसी भी संगठन न हमल की जिम्मदारी नहीं ली है। लेकिन खुफिया सूत्रों ने बताया कि विस्फोट में सिमी और लश्करे तोयबा के हाथ होने के संकेत मिले हैं।ड्ढr ड्ढr सभी विस्फोट भीड़भाड़ वाली जगहों पर हुए। सुरक्षा क लिहाज स दिल्ली और मुंबई और उत्तर प्रदेश सहित देश के सभी प्रमुख शहरों मं हाई अलर्ट घाषित कर दिया गया है। जिन जगहों पर धमाके हुए उनमें वित्तल माल्या राड, पंथारापाल्या, नयंदही, अड्डूगाडी, माडीवाला, मैसूर रोड और रिचमॉड स*++++++++++++++++++++++++++++र्*ल शामिल हैं। ये सभी इलाके दक्षिणी बेंगलुरु में आते हैं। क्रूड बम को शरणार्थी कैंप और सड़क के किनार छिपा कर रखा गया था। सभी धमाके 1.30 से 1.45 बजे के बीच हुए। केन्द्र न इस घटना की कड़ शब्दां मं निंदा की है। केन्द्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता न बताया कि धमाकां क जरिए शहर की शांति भंग करन की काशिश की गई है। लकिन हम उपद्रवियां की साजिश का कामयाब नहीं हान दंग। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने कहा कि केन्द्र ने राज्य सरकार को पहले ही बता दिया था कि बेंगलुरु में इस तरह के धमाके हो सकते हैं।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि खुफिया ब्यूरो ने बेंगलुरु व हैदराबाद में आतंकी हमले की आशंका जतायी थी। प्रधानमंत्री ने घटना पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने मृतक के परिान को एक लाख का मुआवजा देने की घोषणा की है। राज्य सरकार ने भी एक लाख के मुआवजे का ऐलान किया है। गृह मंत्री शिवराज पाटिल ने विस्फोटों की निंदा करते हुए स्थिति से निपटन के लिए राज्य सरकार को सभी तरह की मदद देन की पेशकश की। पाटिल न कहा कि इस तरह की घटनाएं सरकार को राष्ट्र विरोधी तत्वों स कड़ाई से निपटन की नीति का पालन करने से डिगा नहीं सकती हैं। सोनिया गांधी ने विस्फोटों की निंदा करते हुए इन्हें समाज विरोधी तत्वों की कायरतापूर्ण करतूत करार दिया है। बिदरी न बताया कि धमाक ला इंटंसिटी क हैं और इसस काई खास नुकसान नहीं पहुंचा है। सूत्रां क अनुसार ज्यादातर जगहां पर बम जमीन क अंदर दबाकर रख गए थ। धमाकां मं कम क्षमता वाल जिलटिन इस्तमाल किए जान की आशंका है। केन्द्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार स्थानीय सिमी कार्यकर्ताओं का हाथ इस घटना में हो सकता है। लश्कर तोयबा पर भी शक है।ड्ढr ड्ढr घटना को अंजाम देने के लिए विस्फोटक और मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया। फोरेंसिक विशेषज्ञ और बम निरोधक दस्ता तुरन्त मौके पर पहुंच गया और पुलिस ने इलाकों में नाकेबंदी कर दी। घायलों को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आमतौर पर शांत माना जाने वाला शहर बेंगलुरु में बम धमाकां क बाद अफरातफरी मच गई। लाग बतहाशा अपन घरां की आर भागने लगे। पूरे शहर मं सनसनी फैल गई है। घटना क बाद सुरक्षा कड़ी कर दी गई। माबाइल सवा भी जाम हा गई। सुरक्षा क मद्दनजर पूरे राज्य मं हाई अलर्ट घाषित कर दिया गया है। पहला धमाका नयंदही मं दापहर करीब पौन दा बज हुआ और उसक बाद शहर क मडीवाला क्षत्र क बस स्टॉप पर बम फटा, जहां बस क इंतजार मं खड़ी एक महिला श्रीमती श्रीरवि की मौत हा गई। इसक बाद कवल 12 मिनट क अंतराल पर शहर क विभिन्न इलाकां मं एक क बाद एक सात बम फट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीरियल धमाकों से दहला बेंगलुरु