class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आलिम व फाजिल की परीक्षा लेगा अरबी-फारसी विवि

मानव संसाधन विकास विभाग ने अधिसूचना जारी कर मौलाना मजहरूल हक अरबी एवं फारसी विवि के शक्ितयों को और बढ़ाया है। अब विवि एक विशेष परीक्षा बोर्ड द्वारा निर्देशित परीक्षा कराने की भी शक्ित दी गयी है। अब विवि मदरसा बोर्ड की उच्च शिक्षा जसे आलिम (स्नातक) व फाजिल (स्नातकोतर) परीक्षा कराने और यूजीसी के अनुकूल डिग्री प्रदान के लिए अधिकृत किया जा सकेगा। इससे मदरसा उच्च शिक्षा के छात्रों को अब उच्च स्तरीय पढ़ाई व शोध का बेहतर अवसर प्रदान किया जा सकेगा।ड्ढr ड्ढr साथ ही विवि रोगारोन्मुखी पाठय़क्रम चलाने के लिए अनुकूल संस्थाओं का विकास संभव हो सकेगा। अब विवि वोकेशनल, प्रोफेशनल व शिक्षा में पढ़ाई कराने का रास्ता साफ हो गया है। विवि में जब तक अपने संकाय नहीं बन जाते हैं तब तक शोध संचालन के कार्यो के लिए अन्य विवि के शिक्षकों के स्वीकृत पैनलके आधार पर पीएचडी व प्रीपीएचडी के लिए विवि सक्षम होगा। इसी प्रकार तत्काल रोगार व अन्य शैक्षणिक कार्यो के लिए सहभागिता व संबंधन के आधार पर ज्ञान संसाधन केंद्रों के माध्यम से शिक्षा दी जाएगी। कुलपति प्रो. कमर अहसन ने बताया कि बिहार विवि अधिनियम 1े प्रावधानों के अनुकूल अन्य विवि के शिक्षकों को इस विवि के सिनेट, सिंडिकेट व एकेडमिक काउंसिल में नामित किया जा सके।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आलिम व फाजिल की परीक्षा लेगा अरबी-फारसी विवि