अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीचाी में केन्द्रीय मूल्यांकन नहीं होगा

लखनऊ विश्वविद्यालय में पीाी कक्षाओं में सेमेस्टर प्रणाली को ठीक करने के लिए केन्द्रीय मूल्यांकन व्यवस्था खत्म होगी। लविवि कुलपति प्रो. एएस बरार की अध्यक्षता में शनिवार को हुई विभागाध्यक्षों की बैठक में यह मुद्दाोोर शोर से उठाया गया।ड्ढr अब इसे परीक्षा समिति से पास करवायाोाएगा।ड्ढr पीाी कक्षाओं में केन्द्रीय मूल्यांकन व्यवस्था होने के कारण देर से परीक्षा परिणाम घोषित होते हैं। विवि में एमए के विषयों में तो छात्र एक सेमेस्टर का परिणामोाने बगैर ही दूसर सेमेस्टर की परीक्षाएं दे रहे हैं। यही दशा पीाी डिप्लोमा कोर्सो की है। विभागाध्यक्षों की इस मांग पर कुलपति ने भी सहमतीोताई। अब विभाग स्तर पर ही सेमेस्टर परीक्षाओं के पर्चे बनेंगे और शिक्षक कापियाँोाँचेंगे। परीक्षा विभाग सिर्फ मार्कशीट बनाने का ही काम करगा। पीाी कक्षाओं में प्रथम सेमेस्टर व तृतीय सेमेस्टर की पढ़ाई 1 अगस्त से 30 नवंबर तक होगी। परीक्षाएं 1 से 15 दिसम्बर तक होंगी। दूसर सेमेस्टर व चौथे सेमेस्टर की पढ़ाई 1ोनवरी से 30 अप्रैल तक होगी। 1 से 15 मई तक परीक्षाएं होंगी।ड्ढr बैठक में लविवि कुलपति ने कक्षाओं में नोाने वाले शिक्षकों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि वह छात्रों से पूछेंगे कि शिक्षक कक्षाओं में आ रहे हैं याड्ढr नहीं। शिक्षकों की उपस्थिति के लिए वह छात्रों से लिखित रिपोर्टड्ढr भी लेंगे। उपस्थिति रिपोर्ट का प्रोफार्मा तैयार कियाोा रहा है।ोल्द ही छात्रों से इसे भरवायाोाएगा। इसमें छात्रों के नाम पूरी तरह गोपनीय रखेोाएँगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीचाी में केन्द्रीय मूल्यांकन नहीं होगा