class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भीम बाबू बंगाल की खाड़ी से गंगा बहाना चाहते : नीतीश

‘उल्टी गंगा क्यों बहाना चाह रहे हैं भीम बाबू। अगर खाली गप ही देना है तो आपका प्रस्ताव ठीक है, लेकिन सही मायने में काम करना हो तो दिल्ली पर दबाव दीजिए।’ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजद के डॉ. भीम सिंह को कुछ इसी तरह उलझाया। शुक्रवार को विधान परिषद में गैर सरकारी संकल्प के माध्यम से विधानसभा और लोकसभा में अत्यंत पिछड़ी जाति को आरक्षण देने के प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह काम दिल्ली को करना है और वहां जोर दे नहीं रहे। ऐसे तो यह सिर्फ गप ही रह जाएगा। गंगा गंगोत्री से बहती है और भीम बाबू बंगाल की खाड़ी से उसे बहाना चाहते हैं।ड्ढr ड्ढr जदयू के रामबदन राय ने कहा कि बिहार के 40 सांसदों में एक भी अति पिछड़ी जाति का नहीं है और इस मामले में ऊपर से प्रयास होना चाहिए ताकि कार्रवाई हो सके। उधर भीम सिंह प्रस्ताव पास कराने को लेकर अड़े हुए थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में यह प्रस्ताव पेश करवाइए तो उनका दल भी पुरजोर तरीके से सहयोग करगा और यहां भी मेज थपथपाएगा, लेकिन अगर केवल हवाबाजी करानी है तो कोई बात नहीं। वे इस प्रस्ताव को पास करने के पक्ष में हैं। अंत में सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पास हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भीम बाबू बंगाल की खाड़ी से गंगा बहाना चाहते : नीतीश