class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत लक्जरी ब्रांड उत्पादन का मुख्य कंेद बनेगा

भारत अगले चार-पांच वषर्ो के दौरान वैश्विक स्तर के कई लक्जरी ब्रांड के निर्माण का केन्द्र बन सकता है। भारतीय उद्योग एवं वाणिय मंडल परिसंघ फिक्की तथा निजी क्षेत्र के यस बैंक की हाल में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व स्तर पर भारत के लक्जरी ब्रांड का केंद्र बनने की बहुत संभावनाएं हैं। वह समय बहुत दूर नहीं है जब भारत इस तरह के ब्रांड के कारोबार में 50 करोड़ डालर का विशाल बाजार बनकर उभरेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि इस अवसर का लाभ उचित तरीके से उठाया गया तो भारत को लक्जरी वस्तुआें के निर्माण का एक बड़ा केंद्र बनने से कोई नहीं रोक सकता है। रिपोर्ट के अनुसार इस काम में कुशल मजदूर और चमड़ा आदि जरुरी वस्तुआें की उपलब्धता बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। इसके अलावा यहां व्यक्ितगत स्तर पर बढ़ रही संपन्नता भी इस बाजार के लिए यादा फायदेमंद होगी। फ्रांस के लक्जरी ब्रांड लुइस विटान ने इस संभावना को भांप लिया है और इसी कारण उसने यहां बेंगलूर और मुंबई जैसे प्रमुख शहरों में अपनी उपस्थिति दर्ज कर चुका है। इसमें यादा रोचक बात यह है कि भारत तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था वाला देश है और यहां प्रति व्यक्ित की खरीद क्षमता भी तेजी से बढ़ रही है जिसका लाभ दुनिया के सभी बड़े उठाना चाहते हैं। इसके अलावा यहां वर्ष 2025 तक प्रति उपभोक्ता आय भी तीन गुणा तक बढ़ने की उम्मीद है और इसके मूल में देश की सकल घरेलू उत्पाद दर की महत्वपूर्ण भूमिका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत लक्जरी ब्रांड उत्पादन का मुख्य कंेद बनेगा