DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

गुरुाी और उनका आशीर्वाद..अपने गुरुाी आजकल बहुते टेंशन दे रहे हैं। संउसे झारखंड की निगाह गुरुाी के पत्ता पर लगल है। पर उ अइसा न पत्ता दबा के बैठे हैं कि सबका मन अकबका के रह जा रहा है। गुरुाी दिल्ली में बइठ के कोयला के खान से हीरा निकालेंगे कि झारखंड के मुखिया बन के इहां के लोग के दुख-दरद दूर करंगे, इ सवाल दिन पर दिन अझुराते जा रहा है। उनके मन में कवन कुरसिया पर बइठ के जनता के सेवा कर का जोड़-घटाव चल रहा है, उ तो वही जानें, लेकिन उनके शिष्य लोग तो इहे चाहते हैं कि गुरुाी झारखंडे में बइठें। शिष्य लोग जानता है कि गुरुाी को झारखंडे में बइठावे में गुरु-शिष्य दोनों का फायदा है। गुरुाी जेतना नजदीक रहेंगे, ओतने जादे आशीर्वाद देबेंगे। काहे कि गुरुाी के ही आशीर्वाद से तो हनी भइया भी मजे से पकौड़ा छान रहे हैं। हां, गुरुाी के झारखंड में बइठे में हनी भइया को थोड़ी तकलीफ हो सकती है। काहे कि कवनो प्रिय शिष्य गुरुाी के आशीर्वाद में बंटवारा नहीं चाहेगा। पर का कीािएगा, जसे गुरुाी के आशीर्वाद बलवान है, ओइसहीं समय भी बहुते बलवान होता है। कुछ तो अपना प्रभाव उहो दिखइबे करगा..।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग