अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएसयू में आकर्षण नहीं रह गया : रिटोलिया

सीसीएल के सीएमडी आरपी रिटोलिया ने कहा कि अब पब्लिक सेक्टर में आकर्षण नहीं रह गया है। यहां से काफी लोग छोड़ कर जा रहे हैं। उन्हें रोकने का प्रयास भी सफल नहीं हो पा रहा है। सभी प्राइवेट कंपनी ज्वाइन करना चाहते हैं। इन जगहों पर अराम तलब जिंदगी की चाह रखनेवाले नौकरी करना चाहते हैं। अब भी पीएसयू में अधिक नौकरी कोयला कंपनियां ही दे रही हैं। वह सोमवार को हिन्दुस्तान से बात कर रहे थे। वह 31 जुलाई को रिटायर होने वाले हैं।ड्ढr रिटोलिया ने कहा कि सीसीएल उन्हें घर जसा लगा। हालांकि व्यावसायिक समस्या रही। सभी के सहयोग से ही वह कंपनी को यहां तक पहुंचा पाये। रफ्तार यही रही तो आनेवाले चार वर्षो में उत्पादन 56 एमटी तक पहुंच सकता है। इसे और बढ़ाना होगा, क्योंकि उस वक्त तक कंपनी से 78 एमटी उत्पादन की अपेक्षा है। पिछले चार वर्षो में 35 से यह 44 एमटी पर पहुंचा है। उम्मीद नहीं थी कि चालू खदानों से यह संभव है। लक्ष्य पूरा करने में काफी दिक्कत हुई। अभी की स्थिति को बरकरार रखने के लिए भी कई चालू खदानों को रिप्लेस करना होगा। कंपनी आनेवाले दिनों में पावर सेक्टर में ज्वाइंट वेंचर के तहत काम करगी। इसके लिए सीआइएल से दिशा-निर्देश मांगा गया है।ड्ढr ओबीएस का चेक सौंपाड्ढr सीसीएल के डीपी टीके चांद ने सोमवार को स्व राम प्रीति सिंह की पत्नी उमा रानी को ओबीएस का दो लाख का चेक सौंपा। सिंह रारप्पा प्रोजेक्ट में कार्यपालक अभियंता (उत्खनन) के पद कार्यरत थे। मौके पर सीजीएम एमएन झा, जीएम एके सिंह सहित एसके सिंह, शैलेंद्र प्रसाद, आरएस सिंह, डीएम झा, दीपक कुमार, विनय शंकर, अमित मुखर्जी, आरके सिंह, आरके कांसी भी मौजूद थे।ड्ढr सीकेएस का प्रदर्शन एक कोड्ढr सीसीएल कोलियरी कर्मचारी संघ के सदस्य एक अगस्त को एरिया सीजीएम, जीएम कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर मांग पत्र सौपेंगे। केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य एसएन शर्मा ने बताया कि करोड़ों खर्च करने के बाद भी क्षेत्रों में शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है। अस्पतालों को बाहर से चमकाया जा रहा है। मरीाों को दवा बाहर से खरीदनी पड़ रही है। एलपीजी पर जवाब-तलबड्ढr कोल इंडिया ने सभी सहायक कंपनी प्रबंधनों से पूछा है कि क्या वे मुख्यालय में पदस्थापित कर्मियों को प्रतिमाह एक एलपीजी सिलिंडर या उसकी राशि का भुगतान करते हैं? इस संबंध में सीजीएम (पीएंडआइआर) आरएस राम ने 25 जुलाई को कंपनी के जीएम वेलफेयर को पत्र भेजा है। दि झारखंड कोलियरी मजदूर यूनियन के महासचिव सनत मुखर्जी ने कोल इंडिया अध्यक्ष को इस बाबत पत्र भेजा था। इसमें यह सुविधा देने की मांग की गयी थी।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीएसयू में आकर्षण नहीं रह गया : रिटोलिया