DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रामीणों की चुप्पी बयां कर रही थी दहशत

विष्णुगढ़ थाना क्षेत्र का डुबका तिलैया घनघोर जंगलों में स्थित है। विष्णुगढ़ से घटनास्थल तक की सड़कें अत्यंत जर्जर हैं। सिमरबेड़ा से तिलैया तक जाने का जो रास्ता है, उसमें गाड़ियों का परिचालन बहुत मुश्किल है। छह किमी दूर ही गाड़ी खड़ी कर डुबका तिलैया जाना पड़ा। मजबूत सूचना तंत्र के बलबूते पुलिस नक्सलियों के दुर्ग तक पहुंची। एक सप्ताह पहले ही पुलिस को यह सूचना मिली थी कि उग्रवादी विष्णुगढ़ में शहादत दिवस मनानेवाले हैं। शहादत दिवस को सफल बनाने के लिए नक्सलियों ने बजाप्ता पोस्टर पर्चा भी जगह-ागह साटा था। इन पर्चो के माध्यम से पुलिस यह जानकारी करने में लगी थी कि आखिर किन क्षेत्रों में नक्सली शहादत दिवस मनायेंगे। तीन दिन पहले पुलिस को यह सूचना मिल गयी थी कि डुबका तिलैया में शहादत दिवस मननेवाला है। इसी सूचना के आधार पर पूरी रणनीति बनायी गयी। ड्ढr ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ग्रामीणों की चुप्पी बयां कर रही थी दहशत