DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरेन्द्र का मौन व्रत दूसर दिन भी जारी रहा

विश्वविद्यालयों में हड़ताल खत्म कराने को लेकर भाजपा के पूवरेत्तर राज्यों के केन्द्रीय प्रभारी हरन्द्र प्रताप के आंदोलन को सत्तारूढ़ भाजपा और जद यू के विधायकों का पुरजोर समर्थन मिल रहा है। सरकार की उदासीनता और उसके रुख के खिलाफ श्री प्रताप का धरना और मौनव्रत दूसर दिन भी कोतवाली थाने में जारी रहा और इसे लेकर पूरा थाना परिसर राजनीति के अखाड़े में तब्दील रहा।ड्ढr ड्ढr धरनास्थल बना थानाध्यक्ष के कमर के सामने के बारामदे का फर्श सत्तारूढ़ भाजपा-जद यू के विधायकों, विधान पार्षदों और नेताओं से पटा रहा। मंगलवार को वहां ढ़ाई दर्जन विधायक-पार्षद पहुंचे। इनमें अधिसंख्य वैसे ही विधायक थे जो पिछले दिनों किसी न किसी वजह से अपने-अपने दल के नेतृत्व से नाराज रहे थे। श्री प्रताप के साथ आज धरने पर बैठने वालों में राजग सरकार के पूर्व मंत्री चन्द्रमोहन राय, जनार्दन सिंह सीग्रीवाल और अजीत कुमार के अलावा विधायकों-विधान पार्षदों में रामेश्वर प्रसाद चौरसिया, अवनीश कुमार सिंह, अमरन्द्र प्रताप सिंह, विनोदनारायण झा, नित्यानन्द राय, प्रमरंजन पटेल, अरुण सिन्हा, संजय सरावगी, संजीव झा, अनिल कुमार, नितिन नवीन, रामदेव महतो, प्रदीप दास, ललन पासवान, रणु कुमारी (खगड़िया), जय कुमार सिंह, हरिभूषण ठाकुर बचौल (निर्दलीय), रामायण मांझी, अशोक यादव, प्रदीप सिंह, राजकिशोर केसरी, कृष्ण कुमार ऋषि, विनोद यादव, वीरकेश्वर सिंह, बालेश्वर सिंह भारती, राजवंशी सिंह, नरन्द्र सिंह और रामकिशोर सिंह के अलावा पूर्व विधायक जनार्दन शर्मा, पूर्व सांसद कामेश्वर पासवान, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य अखिलानन्द सिंह, भाजयुमो के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य मिथिलेश तिवारी, सुधीर शर्मा और अरविन्द कुमार सिंह आदि मौजूद थे। विधायकों ने कहा कि वे छात्रहित के इस मुद्दे पर हरन्द्रजी के साथ हैं। श्री प्रताप ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी से सवाल किया है कि वे बताएं कि बंद से विश्वविद्यालयों और कालेजों के छात्रों को हो रहे नुकसान की भरपाई कैसे होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हरेन्द्र का मौन व्रत दूसर दिन भी जारी रहा