अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्णिया-अररिया में तबाही

पूर्णिया व अररिया जिले में बाढ़ से तबाही जारी है। पूर्णिया के गढबनैली प्रखंड के दुबैली गांव में मंगलवार को पनार नदी का पानी प्रवेश कर गया है। बाढ़ से मुख्य सड़क कट गयी है। अररिया जिले के प्रखंड क्षेत्रों में भी जनजीवन अस्त-व्यस्त है। सैकड़ों एकड़ भूमि में लगी फसल बकरा नदी के पानी में डूब गयी है। वहीं कुर्साकांटा एवं सिकटी प्रखंडों को विभाजित करने वाली बकरा नदी के किनार बसे गांवों का अस्तित्व समाप्त होने के कगार पर है।ड्ढr ड्ढr गढ़बनैली (पूर्णिया) से सं.सू. के अनुसार लखना पंचायत के दुबैली गांव को बाढ़ ने पूरी तरह चपेट में ले लिया है। बाढ़ के तेज बहाव में दुबैली की मुख्य सड़क बह गयी है जिससे गांव के लोग बाढ़ के पानी से घिर गये हैं। करीब बाइस सौ आबादी वाले इस गांव से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। पानी बढ़ने की रफ्तार लगातार तेज है। कई घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। सैकड़ों एकड़ में लगी फसलों को डुबोते हुए बाढ़ का पानी तेज रफ्तार से डुमरी गांव की ओर बढ़ रहा है। मुखिया पोस्सर्रत जहां एवं पंचायत प्रतिनिधि मो. एजाज समेत कई लोग बचाव का यथासंभव प्रयास कर रहे हैं पर प्रशासन इससे अभी बेखबर है।ड्ढr ड्ढr अररिया से ए.प्र. के अनुसार बकरा नदी के किनार बसे कुर्साकांटा प्रखंड का तीरा, परड़िया, खुटहरा, मेधा, डैनिया एवं सिकटी प्रखंड का पीरगंज डैनिया तीरा खारदह गांव दो भागों में विभक्त होकर अपना अस्तित्व खोने के कगार पर है। तीरा खारदह गांव के लोग भी अब स्थान परिवर्तन का मन बना रहे हैं। इस गांव का राय टोला ब्रह्माण टोला, सरदार टोला, केवट टोला के लगभग डेढ़ सौ परिवार कटाव से प्रभावित हैं। गांव के सम्पन्न किसानों की सैकड़ों एकड़ कृषि योग्य भूमि नदी में विलीन होने के कारण उनके समक्ष पलायन ही एक शेष रास्ता बचा है। तीरा खारदह गांव को नदी में विलीन होने से बचाने के लिए जिला प्रशासन ने स्पर बनाने की स्वीकृति दी थी लेकिन वह भी नहीं बना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पूर्णिया-अररिया में तबाही