DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू की उपलब्धि ‘घर ससुराल’ रेललाइन

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रलमंत्री लालू प्रसाद को राजनीतिक जगत का सबसे बड़ा झूठा व्यक्ित करार देते हुए कहा कि अगर गोएबल्स (हिटलर का प्रचार मंत्री) जिंदा होता तो वह भी शरमा जाता। बुधवार को विधानसभा कक्ष में संवाददाताओं से बात करते हुए श्री कुमार ने कहा कि जबरदस्त मुनाफे का ढोल पीटने वाले लालू की एकमात्र उपलब्धि ‘घर-ससुराल’ रललाइन है। उन्होंने रलवे को अपनी ‘प्रापर्टी’ बना लिया है।ड्ढr ड्ढr रल चक्का फैक्ट्री के शिलान्यास समारोह में राज्य सरकार को बुलाया तक नहीं। अगर हिम्मत है तो दूसर राज्यों में भी रलवे कार्यक्रमों में वहां की सरकार को आमंत्रण न भेजकर दिखाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद रलवे कार्यक्रमों का राजनीतिक मंच के रूप में उपयोग कर रहे हैं। ऐसा तो वही करगा जिसमें आत्मविश्वास की कमी हो। चुनाव सिर पर है तो शिलान्यास करने लगे।ड्ढr ड्ढr इसका राज्य को कोई लाभ नहीं होगा। बिहार में रलवे की सभी पुरानी परियोजनाएं ठप हैं। हरनौत कारखाने तो ठंडे बस्ते में है। दीघा पुल की क्या हालत है? श्री कुमार ने कहा कि चाहे रलवे परियोजनाओं के लिए बिहार में जमीन का मामला हो या रलवे को मुनाफे में पहुंचाने की बात, लालू लगातार झूठ बोल रहे हैं। हमार समय में तो निवेशयोग्य मुनाफा लगभग 3500 करोड़ रुपये था। रलमंत्री बताएं कि अभी निवेशयोग्य मुनाफा कितना है? अगर सचमुच जबरदस्त लाभ है तो रलवे को बजटीय सहायता की जरूरत क्यों पड़ी? जमीन-जमीन चिल्लाते हैं लेकिन उनके अधिकारी ऐसी कोई समस्या नहीं बताते। अगर राज्य सरकार भूमि अधिग्रहण में मदद नहीं करती तो वे छपरा में रेलवे पहिया कारखाना का शिलान्यास भी नहीं कर पाते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लालू की उपलब्धि ‘घर ससुराल’ रेललाइन