अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिाला परिषद में शक्ित परीक्षण की तैयारी शुरू

जिला परिषद अध्यक्ष शकुंतला देवी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का मामला पूरी तरह गरमा गया है। जिला परिषद अध्यक्ष और विक्षुब्ध गुट के बीच सदन में शक्ित परीक्षण की तैयारी शुरू है। पार्षद दो गुट में बंट गए हैं। जोड़-तोड़ की राजनीति अपने पूर शबाब पर है। बैठकों का दौर जारी है। कुछ पार्षद अंडर ग्राउंड हैं। अध्यक्ष ने भी बुधवार को पार्षदों के साथ बैठक कर अपना वजन तौला।ड्ढr ड्ढr दर्जन भर पार्षद बुधवार को दोनों गुट की बैठक में शामिल हुए। दोनों गुट अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। अध्यक्ष ने 35 पार्षदों के साथ रहने का दावा किया है। वही विरोधी गुट में 30 पार्षद होने का दावा किया जा रहा है। हालांकि जिला परिषद अध्यक्ष को दी गई नोटिस पर मात्र 15 सदस्यों ने हस्ताक्षर किया है। जिला परिषद में कुल पार्षदों की संख्या 46 है। अध्यक्ष को अपनी कुर्सी बचाने के लिए 24 पार्षदों की जरूरत है और इतने ही पार्षदों आवश्यकता उन्हें सदन में परास्त करने के लिए विरोधी गुट के नेतृत्वकर्ता को भी है। विरोधी गुट के नेतृत्वकर्ता पार्षद ललन अंबेदकर का दावा है कि तर्क सुनने के बाद तीन पार्षद और खेमे में शामिल हो गये हैं।ड्ढr ड्ढr दूसरी ओर सूत्रों के अनुसार दोनों गुट की बैठक में शामिल होने वाले पार्षद मोल-भाव में लगे हैं। माना जा रहा है कि अंतिम क्षण में जिसकी बोली ऊंची होगी उसी को विजय लक्ष्मी माला पहनायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चिाला परिषद में शक्ित परीक्षण की तैयारी शुरू