अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषक पाठशाला में सीखे खेती के गुर

10 में मेडाआस्कर के एक किसान द्वारा की गई खोज श्री पद्धति से धान की खेती जविक खेती का एकबहुत बड़ा माध्यम है जिससे कम लागत पर उत्तम क्वालिटी व अधिक मात्रा में धन का उत्पादन होता है। उक्त बातें राज्य चावल विकास निदेशालय के वैज्ञानिक डा. एमसी दिवाकर ने कंचनपुर गांव में आत्मा द्वारा आयोजित कृषक पाठशाला में किसानों क ो संबोधित करते हुए कही। पाठशाला का संचालन किसान भूषण सुधांशु सिंह ने किया। इसमें हर वर्ग के वैसे 25 कृषकों को शामिल किया गया, जो ट्रेनिंग के पश्चात अन्य किसानों को प्रशिक्षित कर सकें।ड्ढr ड्ढr पाठशाला को आत्मा के परियोजना निदेशक डा. वेद नारायण सिंह, उपनिदेशक बृजेन्द्र आदि वैज्ञानिकों ने संबोधित किया। वहीं शामिल किसानों में रामा यादव, कौशल्या देवी, सहाानंद सिंह, सुरन्द्र ठाकुर, कैलाश सिंह, प्रियंका शर्मा, ललन प्रसाद सिंह, शमशुद्दीन अंसारी, ब्रज किशोर शर्मा, सुरश सिंह, राम सुभग सिंह, काशी सिंह आदि प्रमुख थे। पाठशाला विभिन्न अंतरालों पर धान की कटाई तक चलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृषक पाठशाला में सीखे खेती के गुर