अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

।सरकारी खर्च पर हचा सेवक बनेंगे हचा कमेटी के सदस्य!

हा का जाने के लिए राज्य हा कमेटी ने सरकारी नियम को ही बदल दिया है। इस बार सरकारी कर्मचारी के बदले हा कमेटी के सदस्य खुद ही हा सेवक (खादेमुल हुज्जाज) बनने की फिराक में हैं। सरकारी खर्च पर हा करने के लिए न सिर्फ नियम को पटला, बल्कि इसके अनुमोदन की भी पूरी तैयारी की जा रही है। हा एक्ट ऑफ इंडिया के मुताबिक सरकारी कर्मचारी को ही खादेमुल हुज्जाज के रूप में चयन करने का प्रावधान है। इसका खर्च भी सरकार वहन करती है। राज्य हा कमेटी ने खुद हा सेवक बनने का फैसला लेकर सभी को चौंका दिया है। कमेटी के सदस्यों का भी कहना है कि एक्ट में सरकारी कर्मचारी को ही जाने का नियम है, लेकिन लखनऊ में सदस्य ही हा सेवक के रूप में जाते हैं। इसको ध्यान में रख कर झारखंड हा कमेटी ने भी फैसला लिया है। यह प्रस्ताव केंद्र के पास अनुमति के लिए भेजा जायेगा।ड्ढr मैनेनजाइटिस टीका लेनेवालों को ही वीजाड्ढr बिना मैनेनजाइटिस टीका लिये हा की इजाजत नहीं दी जायेगी। उन्हें वीजा उपलब्ध नहीं कराया जायेगा। यह निर्देश केंद्रीय हा कमेटी मुंबई ने हा यात्रियों को दिया है। इस संबंध में केंद्र की ओर से हा कमेटियों पत्र भेजा गया है। इसे गंभीरता से लेते हुए झारखंड हा कमेटी ने सिविल सर्जनों को पत्र भेजा है। इसमें अनुरोध किया है कि वे इस मामले में सहयोग करं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ।सरकारी खर्च पर हचा सेवक बनेंगे हचा कमेटी के सदस्य!