DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएम पद के लिए माया का समर्थन नहीं : करात

वाम दलों ने साफ कर दिया है कि आसन्न लोकसभा चुनाव में वह प्रधानमंत्री पद के लिए बसपा प्रमुख मायावती की उम्मीदवारी का समर्थन नहीं करंगे। यूएनपीए के घटक इनेलोद ने भी वाम दलों के सुर में सुर मिलाया है। यह भी खबर है कि माकपा महासचिव प्रकाश करात और रालोद अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने जद (एस) प्रमुख एचडी देवगौड़ा से मुलाकात की है। माना जा रहा है बैठक में यूएनपीए को मजबूत बनाने के उपायों पर चर्चा हुई। माकपा ने गुरुवार को साफ किया कि बसपा के साथ मौजूदा गठाोड़ ताजा राजनीतिक हालात को ध्यान में रखकर किया गया था। हालाँकि संप्रग सरकार जब अल्पमत में थी तब भाकपा नेता एबी वर्धन ने एलान किया था कि सरकार गिरी तो अगली पीएम मायावती होंगी। एक टीवी चैनल से बातचीत में करात ने कहा कि मौजूदा गठाोड़ तीसरा विकल्प नहीं है। तीसरा मोर्चा न्यूनतम साझा कार्यक्रम के आधार पर बनेगा। करात ने यह भी कहा कि वह संप्रग के साथ चुनाव बाद किसी तरह का गठबंधन नहीं करंगे। वहीं, इनेलोद के महासचिव अजय चौटाला ने कहा कि उनकी पार्टी पीएम पद की उम्मीदवारी के लिए बसपा प्रमुख का समथर्न नहीं करगी। चौटाला ने इससे इनकार नहीं किया कि उनकी पार्टी बसपा से गठबंधन बनाकर लोकसभा चुनाव लड़े।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीएम पद के लिए माया का समर्थन नहीं : करात