DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिश्वत रैकेट में भारतीय मूल के सात लोग शामिल

रिश्वत रैकेट में भारतीय मूल के सात लोग शामिल

अमेरिका में आठ व्यक्तियों पर एक ऐसी योजना में संलिप्त रहने के आरोप लगे हैं जिसमें 23 लाख डॉलर की रिश्वत दी गई। आरोपियों में से सात भारतीय मूल के हैं।

यह रिश्वत एक चिकित्सकीय प्रबंधन कंपनी को एक व्यवसाय सुनिश्चित करने के लिए दी गई। जिन व्यक्तियों पर रिश्वत देने का आरोप लगा है, उनमें सर्वेश धरायण, संजय गुप्ता, वेंकट अतुलरी, रंगराजन कुमार, वंदन कुमार कोपाले और दारीन सिरियानी शामिल हैं। रिश्वत लेने के आरोप वाले लोगों में अनिल सिंह और कीथ बुश शामिल हैं।

न्यूयॉर्क के दक्षिणी जिला अटॉर्नी प्रीत भरारा ने आरोप दायर करने के बाद कहा कि आज की हमारी कार्रवाई लालच के चलते कानून तोड़ने वालों को न्याय के कठघरे में लाने के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ मिलकर काम करने की हमारी प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है।

सिंह न्यूयॉर्क कंपनी में वरिष्ठ उपाध्यक्ष और मुख्य सूचना अधिकारी था। यही कंपनी पूरे देश में चिकित्सकीय लागत प्रबंधन समाधान, चिकित्सकीय प्रतिपूर्ति सेवाएं मुहैया कराती है। बुश कंपनी में डाटाबेस प्रशासन में निदेशक के रूप में कार्यरत था।

सिंह और बुश का न्यूयॉर्क कंपनी द्वारा रखे जाने वाले विक्रेताओं, विशेष रूप से डाटाबेस प्रशासन के सेवा प्रदाताओं के चयन में काफी प्रभाव था। आरोप लगाया गया है कि वर्ष 2008 से सितम्बर 2012 के बीच न्यूयॉर्क कंपनी का करोड़ों डॉलर का डीबीए व्यवसाय हासिल करने के लिए विभिन्न व्यक्तियों ने सामूहिक रूप से सिंह और बुश को नकद तथा अन्य लाभ पहुंचाये।

शिकायत के अनुसार धारायण गुप्ता, अतलुरी, कुमार और कोपाले ने रिश्वत दी। धरायण, गुप्ता, कोपाले और श्रीरानी को न्यूजर्सी स्थित उनके घरों से गिरफ्तार करके उन्हें कल मैनहाटन की संघीय अदालत में न्यायाधीश जेम्स एन कोट के समक्ष पेश किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रिश्वत रैकेट में भारतीय मूल के सात लोग शामिल