अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जल्द ही मोबाइल में समाएगी दुनिया सारी

देश के मोबाइल उपभोक्ताओं की जिंदगी बदलने जा रही है। सरकार ने शुक्रवार को थर्ड जनेरशन यानी 3 जी मोबाइल सेवा को शुरू करने का रास्ता साफ कर दिया। अगले छह महीने के भीतर यह सेवा शुरू होने की उम्मीद की जा सकती है। महत्वपूर्ण है कि 3ाी सेवा लेने वाले कस्टमर अपने मोबाइल पर ही टीवी देख सकेंगे। ई-मेल और फैक्स संदेश भेज और मंगवा सकेंगे। वीडियोक्राफ्रेंसिंग कर सकेंगे तथा वीडियो गेम्स का भी आनंद ले पाएंगे। फिल्में डाउनलोड भी हो सकेगी। सरकार 3 जी सेवा के लिए कंपनियों को स्पेक्ट्रम नीलामी के बाद देगी। विदेशी कंपनियां भी यह सेवा दे सकेंगी। इस मसले पर संचार मंत्रालय और ट्राई के बीच मतभेद थे। अमेरिका की एटीएंडटी और अन्य दिग्गज विदेशी कंपनियां भी नीलामी में भाग लेंगी। भारती एयरटेल, वोडाफोन, रिलायंस कम्युनिकेशंस, आइडिया जसी भारतीय कंपनियां भी इसमें भाग लेंगी। बीएसएनएल तथा एमटीएनएल को 3 जी स्पेक्ट्रम के लिए बोली लगाने की प्रक्रिया में भाग नहीं लेना पड़ेगा। उन्हें स्पेक्ट्रम का आवंटन फौरन दिया जा रहा है। टेलीकॉम सेक्टर के जानकार मानते हैं कि 3ाी सेवा महंगी रहेगी और इसके लिए मोबाइल सेट भी अलग से लेना होगा। उसका स्क्रीन मौजूदा मोबाइल के स्क्रीन से बड़ा होगा। शुरूआती दौैर में धनी ग्राहकों में ही यह लोकप्रिय होगी। सरकार शीघ्र ही टेलीकॉम सेक्टर विशेषज्ञों की कमेटी भी बनाने जा रही है, जो 3ाी सेवा को लागू करने की सारी प्रक्रिया देखेगी। सरकार ने मुम्बई तथा दिल्ली के लिए स्पेक्ट्रम का बेस प्राइस 160 करोड़ रुपये रखा है। कोलकाता शहर और श्रेणी बी के शहरों के लिए स्पेक्ट्रम का बेस प्राइस 80 करोड़ रुपये और श्रेणी सी शहरों के लिए बेस प्राइस 30 करोड़ रखा है। ये सभी बेस प्राइस ट्राई की तरफ से सुझाये गये बेस प्राइस से दो गुना हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जल्द ही मोबाइल में समाएगी दुनिया सारी