अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनएच के इइ ने खोला 21 करोड़ का टेंडर

एनएच रांची डिवीजन के कार्यपालक अभियंता ने 21 करोड़ के टेंडर का वित्तीय बीड खोल दिया है। यह टेंडर नामकुम आरओबी का है। इइ को 10 लाख तक के टेंडर खोलने का ही अधिकार है, लेकिन कैबिनेट के निर्णय से बाहर जाकर उन्होंने 21 करोड़ के टेंडर पर हाथ लगा दिया। नियमत: विभागीय निविदा निष्पादन कमेटी ही यह टेंडर खोल सकती है। मामला गंभीर है, इइ से स्पष्टीकरण पूछा गया गया है। गड़बड़ी की खबर सरकार के पास पहुंची है।ड्ढr कमेटी ने आवश्यक कमेंट के साथ इसे केंद्र के पास भेज दिया है। मोदी कंसट्रक्शन (एल वन) का रट शिडय़ूल रट से लगभग 45 प्रतिशत अधिक कोट है। कमेटी 5 प्रतिशत अधिक पर ही टेंडर फाइनल कर सकती है। इस टेंडर में मोदी के अलावा सिंपलैक्स ने भी टेक्िनकली क्वालिफाइ किया था। टेक्िनकल बीड की समीक्षा के बाद उसे केंद्र के पास भेजा गया था।ड्ढr 1ाुलाई को वित्तीय बीड खोलने के बाद जब इसे कमेटी के पास भेजा गया, तो पता चला कि इइ ने पहले ही टेंडर खोल दिया। जानकारी के मुताबिक 2006 के रट पर टेंडर मांगा गया था। अब रिवाइज इस्टीमेट की तैयारी हो रही है।ड्ढr विभागीय सचिव एनएन सिन्हा ने इसे प्रक्रिया में अनियमितता बताया। कहा कि फैसला केंद्र को ही लेना है। आरओबी का काम भी जल्दी शुरू कराना है। सचेत रहने तथा नियम से काम करने के लिए स्पष्टीकरण पूछा गया है। सीइ के आदेश पर खोला : इइ -कार्यपालक अभियंता राजेश गुप्ता का कहना है कि चीफ इंजीनियर के आदेश पर टेंडर का वित्तीय बीड खोला। गड़बड़ी की कोई मंशा नहीं है। लेकिन यह तो बिल्कुल नियम विरुद्ध है के सवाल पर कहा कि जल्दी में काम फाइनल करना जरूरी था। क्या कहते हैं सीइ : चीफ इंजीनियर ने कहा कि अगर ऐसा मामला था, तो इइ को बताना चाहिए था। हमलोग हड़बड़ी में थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एनएच के इइ ने खोला 21 करोड़ का टेंडर