अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सार्क सम्मेलन की पूर्व संध्या पर लिट्टे-सेना संघर्ष में 31 मरे

श्रीलंका में दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) सम्मेलन की पूर्व संध्या पर सेना और लिबरेशन टाइगर्स आफ तमिल ईलम (लिट्टे) विद्रोहियों के बीच संघर्ष में 18 विद्रोही मारे गए और कम से कम 13 सैनिकों को भी अपनी जान गंवानी पड़ी। सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर उदय नानायक्कारा ने बताया कि शुक्रवार को मुल्लइतिवु जिले के मल्लावी में लट्टे के छापामारों के साथ सेना के दिन भर चले संघर्ष में लिट्टे के नौ सदस्य मारे गए, जबकि सेना के 11 जवानों की मौत हो गई। इस संघर्ष में 22 सैनिक और 27 लिट्टे सदस्य घायल भी हुए। पश्चिमोत्तर मन्नार जिले के वेलांकुलम जिले में संघर्ष की एक अन्य घटना में लिट्टे के नौ सदस्य मारे गए और सेना के दो जवानों की मौत हो गई। लिट्टे समर्थक पुथीनाम डॉट काम नामक वेबसाइट ने दावा किया है कि संघर्ष में सेना के 30 जवान मारे गए हैं, जबकि 60 अन्य घायल हो गए। लेकिन सेना के प्रवक्ता ने इस दावे को असत्य करार दिया है। लिट्टे ने सार्क सम्मेलन के मद्देनजर 26 जुलाई से चार अगस्त तक के लिए संघर्ष विराम का प्रस्ताव रखा था, लेकिन राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे की सरकार ने उसे अस्वीकार कर दिया। श्रीलंका में ताजा संघर्ष ऐसे मौके पर छिड़ा है, जब सार्क शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव के शीर्ष नेता कोलंबो पहुंच चुके हैं। यूरोपीय संघ, जापान, चीन, दक्षिण कोरिया, ईरान, मॉरीशस, ऑस्ट्रेलिया, म्यांमार और अमेरिका पर्यवेक्षक देशों के रूप में सम्मेलन में शिरकत कर रहें हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सार्क सम्मेलन की पूर्व संध्या पर संघर्ष में 31 मरे