DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘शिकार’ फँसाने को करते हैं पीसीओ का इस्तेमाल

आबकारी विभाग में नौकरी केनाम पर ठगी करने वाले गिरोह बेहद शातिर हैं! ‘शिकार’ फँसाने के लिए इसके सदस्यों ने विधान भवन, चारबाग के कुछ पीसीओ का इस्तेमाल किया। आवेदन, रािस्ट्री, टाइप खर्च के नाम पर तीन सौ से 15 सौ रुपए तक लिए। गिरोह का मुखिया अयर्थियों से कहता था- ‘नियुक्ित पत्र मिलने के बाद श्रद्धा के मुताबिक सेवा कीािए, वरना न मैं घूस लेता हूँ न ही बिकाऊ हूँ!’ उसकी लच्छेदार भाषा में फँसकर हाारों युवकों ने उसे रुपए दिए थे। लेकिन कोई उसका नाम तक नहींोानता।ड्ढr लिखित परीक्षा, साक्षात्कार के बगैर ही आबकारी विभाग में कनिष्ठ लिपिक, चपरासी (चतुर्थ श्रेणी) के पद के लिएोारी फर्ाी नियुक्ित पत्र के खुलासे के बाद ‘हिन्दुस्तान’ ने शनिवार को इस गोरखधंधे की पड़ताल की। उन परिवारों से संपर्क कियाोिनके लड़के-लड़कियों को फर्ाी नियुक्ित पत्र भेाा गया था। पानीगाँव (इंदिरानगर) केोुमना सिंह ने बताया कि उनका बेटा और बेटी पोस्टग्रेाुएट हैं। दोनों नौकरी के लिए प्रयासरत हैं। कुछ दिन पहले विधान भवन के सामने के पीसीओ पर गए थे। वहाँ एक व्यक्ित आबकारी विभाग में नौकरी के लिए लोगों से र्आी ले रहा था।ोब कोई अयर्थी नौकरी के बदले ‘लेन-देन’ की बात करता तो करीब 48-50 साल उम्र का थुलथुल शरीर वाला वह व्यक्ित बिफरोाता था। लोगों से कहता था कि फकीर समझ लिया है, दूसर बेईमान अधिकारियों की तरह भ्रष्ट समझते हो! चलो निकलो..ड्ढr ठगे गए लोगों ने ठग को पकड़ने की ठानी - पेा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘शिकार’ फँसाने को करते हैं पीसीओ का इस्तेमाल