class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विवि कर्मियों की हड़ताल के समर्थन में राकांपा भी कूदी

विश्वविद्यालय कर्मियों की हड़ताल के समर्थन में राकांपा भी कूद पड़ी है। पार्टी ने राज्यपाल को पत्र लिखकर उनसे इस मामले में शीघ्र हस्तक्षेप की गुहार लगाई है। पार्टी ने उनसे 33 हजार कर्मियों की हड़ताल तुड़वाने के लिए पहल की अपील की है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि बिहार ऐसा अनोखा राज्य है जहां पहले मांग को लेकर हड़ताल करनी पड़ती है और फिर समझौते के कार्यान्वयन के लिए भी हड़ताल का ही सहारा लेना पड़ता है। उन्होंने कहा कि विविकर्मी समझौते के अनुपालन के लिए पिछले एक माह से हड़ताल पर हैं और सरकार सोई हुई है। जब समझौता हो चुका है तो फिर उसका कार्यान्वयन नहीं होना सरकार की घोर उदासीनता को दर्शाता है। उन्होंने विविकर्मियों के समर्थन में राज्यव्यापी आंदोलन की भी चेतावनी दी।ड्ढr ड्ढr रविवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में श्री कुशवाहा ने आरोप लगाया कि नीतीश सरकार में सबसे बदतर स्थिति शिक्षा की ही हुई है। उच्च शिक्षा के साथ-साथ माध्यमिक शिक्षा के प्रति भी राज्य सरकार का रवैया नकारात्मक है। स्कूलों में ऐसे-ऐसे शिक्षकों की बहाली की गई है जिन्हें सौ तक की गिनती भी नहीं आती। इन स्कूलों में गरीबों, पिछड़ों, दलितों के बच्चे पढ़ते हैं जिनका भविष्य सरकार ने बर्बाद कर दिया है। लाखों पद रिक्त हैं और बेरोजगारों को नौकरी देने की बजाए उन्हें ठेके पर रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि विवि कर्मियों के समर्थन में छात्र राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश पटेल 7 व 8 अगस्त को 24 घंटे का उपवास रखेंगे। जरूरत पड़ी तो पार्टी अपने आंदोलन को तेज भी करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विवि कर्मियों की हड़ताल के समर्थन में राकांपा भी कूदी