अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस-पब्लिक के बीच हो मधुर रिश्ता : एडीजी

सूबे के विभिन्न जिलों के लोगों की भावनाओं व समस्याओं को टेलीफोन पर सुनते हुए ‘हिन्दुस्तान ऑनलाइन’ कार्यक्रम में रविवार को राज्य के एडीजी (विधि-व्यवस्था) सह प्रवक्ता अनिल कुमार सिन्हा ने कहा कि पुलिस और पब्लिक के बीच मधुर रिश्ता होना जरूरी है। इस संबंध में सभी स्तर के पदाधिकारियों को संदेश, निर्देश और आदेश दिया जा चुका है कि वे लोगों से सम्मानपूर्वक व्यवहार करं। उन्हें प्रशिक्षण और गोष्ठियों के माध्यम से भी इसकी ट्रनिंग दी जाती है। हमार ट्रनिंग संस्थान खुलने वाले हैं। आने वाले एक-दो वर्षो में स्थिति बदलेगी। कुछ को दंडित करने से व्यवस्था नहीं सुधरगी। गांधीवादी दर्शन से जुड़े हर व्यक्ित का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि अपराध पर हर जगह और हर स्थान पर चर्चा होनी चाहिये। यह निरंतर होना चाहिये।ड्ढr ड्ढr एडीजी ने कहा कि सिपाही बहाली परीक्षा में चयनित उम्मीदवारों का नियुक्ित पत्र शीघ्र ही निर्गत होने वाला है। पुलिस महकमे 2006 से चल रही नियुक्ित प्रक्रिया में स्वच्छता व पारदर्शिता के साथ काम किये गये हैं। अपराध में कमी और अपराधियों पर नियंत्रण के लिए बधाई कहे जाने जाने पर लोगों को ‘थैंक्यू’ बोलते हुए उन्होंने कहा कि अपराध और आपराधिकता दोनों के खिलाफ पुलिस ने मुहिम छेड़ रखी है। सरकार ने बिना भय और पक्षपात के उचित कार्रवाई करने की खुली छूट दे रखी है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि पुलिस न तो राजनैतिक प्रतिबद्धता और न ही पक्षपातपूर्ण कार्य करती है। हरक मामलों में आरोप और साक्ष्य के आधार पर कार्रवाई होती है। झूठा आरोप लगाने या मुदकमा दर्ज कराने वालों पर भी कानूनी कार्रवाई होती है। पटना के अलावा मुजफ्फरपुर, सासाराम और आरा आदि जिले के लोगों ने श्री सिन्हा का ध्यान पेट्रालिंग की कमी, अतिक्रमण समेत अपराध की ओर दिलाया। वहीं नालंदा के लोगों ने सिर्फ शहरी इलाके में ही अपराध नियंत्रण होने की बात कही। इस पर एडीजी ने कहा कि शहर में घनी आबादी होने के कारण छोटी घटना भी ज्यादा तूल पकड़ लेती है वहीं गांवों में छोटे-मोटे मामले दब जाते हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुलिस-पब्लिक के बीच हो मधुर रिश्ता : एडीजी