अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रलवे की जमीन चिह्नित कराने गये रल अधिकारियों पर हमला

ग्रामीणों ने घेर कर पीटा, घायलसोलंकी स्थित रलवे की जमीन को चिह्नित कराने गये रल अधिकारियों पर ग्रामीणों ने हमला कर घायल कर दिया। घायलों को हटिया स्थित रलवे अस्पताल में इलाज कराने के बाद आवश्यक जांच के लिए गुरुनानक अस्पताल में दाखिल कराया गया। रल प्रबंधन का कहना है कि 1और 1में अधिग्रहित भूखंड पर किसी का दावा बेबुनियाद है। यह जमीन रलवे की है। इस पर निर्माण कार्य कराया जायेगा। क्योंकि जमीन पर रलवे के मालिकाना हक के सभी कागजात रलवे के पास हैं। इसके अलावा भी रलवे की जमीन पर अवैध तरीके से कुछ लोगों ने कब्जा कर रखा है। ऐसी जगहों पर जमीन के किनार रलवे चहारदीवारी बना रहा है, ताकि भविष्य की योजनाओं के लिए रलवे अपनी जमीन का उपयोग कर सके। उक्त जमीन पर जांच के बाद स्थानीय प्रशासन ने रलवे के पक्ष में और विपरीत पक्ष के खिलाफ धारा 107 को सशक्त कर दिया गया है।ड्ढr रल प्रबंधन के अनुसार चार अगस्त को सबेर साढ़े दस बजे डीइएन के कांन्का राव, आइओडब्लू हरिप्रमोद गुप्ता और एइएन मुरलाधर राव, जेई गणेश प्रसाद, रमेशचंद्रा, विपिन विहारी लाल और अन्य रलकर्मी जब हटिया-खूंटी हाइवे से सटी जमीन की मापी के बाद चूना से जमीन को चिहिन्त कर रहे थे। उसी वक्त त्रिपुरारी शर्मा समेत अन्य लोगों ने रल अधिकारियों को चारों ओर से घेर लिया और लाठी से दौड़ा कर पीटा। जानकारी मिलने के बाद डीआरएम एके दत्त, एडीआरएम महेंद्र कुमार यादव समेत अन्य अधिकारी रल अधिकारी और डीएसपी चंद्रशेखर प्रसाद, थाना प्रभारी कैलाश यादव घटनास्थल पर पहुंचे। आरपीएफ के जवानों को भी घटनास्थल पर तैनात किया गया है।ड्ढr नामजद प्राथमिकी दर्जड्ढr सोलंकी चौक के निकट निर्माण के दौरान घटी घटना को लेकर पुलिस में मामला दर्ज कराया गया है। रलवे ने त्रिपुरारी शर्मा को नामजद करते हुए अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है।ड्ढr जमीन सरना स्थल: संघड्ढr रलवे विस्थापित संघ ने कहा है कि सोलंकी के पास की जमीन रलवे की नहीं, बल्कि सरनास्थल है। संघ के ज्योति बिन्हा, सुरंद्र कच्छप समेत अन्य ग्रामीणों का आरोप है कि सरना स्थल पर निर्माण नहीं कराने दिया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रलवे की जमीन चिह्नित कराने गये रल अधिकारियों पर हमला