अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोमवारी पर शिवालयों में उमड़े शिवभक्त

सावन की तीसरी सोमवारी पर शिवालयों में शिवभक्तों की भीड़ रही। इधर विश्व हिन्दू परिषद के तत्वावधान में भी अमरनाथ श्राइन बोर्ड की जमीन को वापस करने की मांग को लेकर शिवालयों में जलाभिषेक किया।ड्ढr शिवभक्ित की गीतों पर भक्तजन झूम रहे थे। सभी मंदिरों को भव्य रूप में सजाया गया था। सुबह से ही मंदिरों में जल अर्पण करने के लिए भक्तों की कतारें लगी थी। पूर दिन मंदिरों में शिवभक्ित के गीत पर भक्त झूमते रहे। देर रात तक मंदिरों में भक्तों का जमावड़ा लगा रहा। शाम में मंदिरों में श्रृंगार पूजा भी हुआ। मंदिरों में फूल-बेलपत्र, धथूरा की भी बिक्री खूब हुई। सोमवारी पर दूध की किल्लतड्ढr पटना (हि.प्र.)। सोमवारी को लेकर राजधानी के कई इलाकों में दूध की किल्लत महसूस की गई जिससे श्रद्धालुओं को दूध के लिए बूथो पर चक्कर काटने पर मजबूर होना पड़ा। शहर के कदमकुआं, नाला रोड, श्रीकृष्णापुरी, अनिसाबाद, गर्दनीबाग, कंकड़बाग, राजेन्द्रनगर, राजीवनगर, सब्जीबाग, गांधी मैदान का इलाका सहित पटना सिटी, दानापुर के कई मोहल्लों आदि में लोगों को मांग के अनुसार दूध नहीं मिल पाया।ड्ढr ड्ढr सुबह व शाम में दूध के लिए कई बूथो पर लंबी कतार दिखी। दूध के अलावा दूध से बनने वाले अन्य सामग्रियों की भी खपत के अनुसार आपूर्ति नहीं हो सकी। नतीजतन शहरवासियों को परशानियों का सामना करना पड़ा। इधर पटना डेयरी प्रोजेक्ट के एमडी सुधीर कुमार सिंह ने बताया सोमवारी को लेकर एकाएक दूध का डिमांड बढ़ गया। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर रोाना 1.40 लाख लीटर की अपेक्षा 1.53 लाख लीटर दूध की आपूर्ति की गई। एमडी के अनुसार गांव व शहर के बाहरी क्षेत्रों से आने वाले दूध समुचित रूप से नहीं पहुंच पाया। वजह है कि सभी लोग बूथों पर ही निर्भर हो गए ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सोमवारी पर शिवालयों में उमड़े शिवभक्त