DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धौनी को खेल रत्न सम्मान

भारतीय वनडे टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के मुकुट में सोमवार को एक और हीरा जड़ गया। देश का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल सम्मान धौनी को देने का फैसला लिया गया है। धौनी सचिन के बाद दूसर क्रिकेटर हैं जिन्हें इस सम्मान से नवाजा जायेगा। सचिन को 1में यह सम्मान प्राप्त हुआ था।ड्ढr धौनी ने पिछले साल दक्षिण अफ्रीका में भारत को अपनी कप्तानी में ट्वेंटी-20 विश्वकप का चैंपियन बनाया था। दिल्ली में सोमवार को मिल्खा सिंह की अध्यक्षता वाली कमेटी ने बैठक कर माही को यह सम्मान देने का निर्णय लिया। यह संयोग ही था कि धौनी के रांची लौटने के दो घंटे बाद ही उन्हें खेल सम्मान देने की खबर यहां पहुंची। खबर धौनी के पिता पान सिंह ने सबसे पहले टीवी पर देखी। खबर मिलते ही धौनी के घर में मौजूद लोगों में खुशी दौड़ गयी। थोड़ी देर बाद दिउड़ी मंदिर से पूजा कर धौनी भी लौट आये। शाम को धौनी के दोस्तों ने सेलिब्रेशन कर खुशी मनायी। 2अगस्त को खेल दिवस के दिन पुरस्कार दिया जायेगा। यही नहीं खबर आते ही रांची समेत पूरा झारखंड जश्न में डूब गया। माही के प्रशंसकों ने एक-दूसर को मिठाइयां खिलायीं। उधर, खेल मंत्रालय के अनुसार इसकी खेल रत्न की आधिकारिक घोषणा 20 अगस्त को की जायेगी। धौनी को अवार्ड के लिए चुने जाने का बीसीसीआइ के उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला और मुख्य प्रशासनिक अधिकारी रत्नाकर शेट्टी ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि महेन्द्र सिंह धौनी का पिछले दो साल में प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है। उन्होंने भारत को ट्वेंटी-20 विश्व कप जिताया। शेट्टी ने कहा कि वह माही को पसंद करते हैं।ड्ढr घर आये माही, दिउड़ी में पूजा की तमाड़। महेंद्र सिंह धौनी सोमवार को रांची पहुंचने के तुरंत बाद तमाड़ स्थित दिउड़ी मंदिर गये और पूजा अर्चना की। वहां से घर लौटते ही उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न मिलने का शुभ समाचार प्राप्त हुआ।ड्ढr धौनी हर दौर से पहले दिउड़ी मंदिर जाकर पूजा करते हैं। पिछली बार किसी कारणवश वह नहीं आ पाये थे। यह बात उन्हें शायद कचोट रही थी इसलिए आज रांची पहुंचने के एक घंटे के भीतर ही वह तमाड़ रवाना हो गये। धौनी के तमाड़ पहुंचने की सूचना पर यहां पूरी सुरक्षा व्यवस्था कर दी गयी थी। चप्पे-चप्पे पर कमांडो, एसटीएफ के जवान तैनात थे। इस बार धौनी की सुरक्षा पहले से काफी कड़ी थी। रांची-टाटा मार्ग पर भी व्यापक सुरक्षा व्यवस्था थी। माही के साथ उनके मित्र संतोष लाल, गौतम उपाध्याय, सीमांत लोहानी, डब्लुस, नीलय और बहनोई गौतम गुप्ता थे। दिउड़ी मंदिर के पुजारी मनोज पंडा ने माही और उनके मित्रों को पूजा करायी।ड्ढr मेर लिए प्रेरणा: धौनीड्ढr यह पुरस्कार मेर लिए प्रेरणा का काम करगा। साथ ही यह सम्मान पाने से मेर प्रति लोगों की अपेक्षाएं भी अब बढ़ गयी हैं जिन्हें मैं पूरी करने की कोशिश करूंगा। यह बात महेंद्र सिंह धौनी ने खेलरत्न सम्मान हासिल होने पर अपनी प्रतिक्रिया में कहीं। उन्होंने कहा कि सम्मान से मैं बूस्टेड अप फील कर रहा हूं। संवाददाताधौनी पुरस्कार के हकदार थे : कोड़ाड्ढr रांची। महेंद्र सिंह धौनी को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दिये जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि यह झारखंड के लिए खुशी की बात है। धौनी इस पुरस्कार के हकदार हैंे। अपने छोटे से क्रिकेट करियर में धौनी ने जिस तरह से भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी की, ट्वेंटी-20 वर्ल्ड कप खिताब पर कब्जा जमाया, उससे उनकी प्रतिभा का लोहा पूरा देश मान रहा है। झारखंड सरकार ने भी इसी कारण उन्हें खेल रत्न पुरस्कार देने की घोषणा की है।ड्ढr सरकार की ओर से धौनी को कोई पुरस्कार दिये जाने के सवाल पर सीएम ने कहा कि अब उन्हें कोई कमी नहीं है। न प्यार की और सम्मान की। वह आशा करते हैं कि उनका यह हुनर बना रहे और उसका लाभ झारखंड के गांव-गांव के युवकों के पास पहुंचे। उससे वे लाभान्वित हों। राज्य में कई और धौनी पैदा हों। हिब्यू

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: धौनी को खेल रत्न सम्मान