DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वास और कचचुलशेखरा पर गिर सकचचती है गाज

भारत के खिलाफ गॉल टेस्ट में मिली 170 रन की शर्मनाक पराजय की गाज श्रीलंका के तेज गेंदबाजों चमिंडा वास और नुवान कुलशेखरा पर गिर सकती है। श्रीलंका के चयनकर्ताओं ने शुक्रवार से कोलंबो में शुरू हो रहे तीसरे और अंतिम टेस्ट के लिए पेस आक्रमण में बदलाव करने का फैसला किया है। दोनों टीमें सीरीज में 1-1 से बराबरी पर हैं। दिग्गज गेंदबाज वास और कुलशेखरा के अलावा पहले दो मैचों में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करने वाले सलामी बल्लेबाज माइकल वेंडोर्ट को भी टीम से बाहर होना पड़ सकता है। श्रीलंकाई बोर्ड के एक नजदीकी सूत्र ने कहा कि चयनकर्ता पेस आक्रमण में बदलाव और वेंडोर्ट की टीम में उपयोगिता के बारे में चर्चा कर रहे हैं। भारत के खिलाफ अभ्यास मैच में लंका बोर्ड एकादश की ओर से शानदार प्रदर्शन करने वाले 25 साल के युवा तेज गेंदबाज धमिका प्रसाद कोलंबो टेस्ट में पर्दापण कर सकते हैं। गॉल में एक भी विकेट लेने में नाकाम रहे कुलशेखरा के स्थान पर उन्हें टीम में शामिल किए जाने की संभावना है। 25 वर्षीय इस प्रतिभाशाली गेंदबाज ने श्रीलंका के लिए तीन एकदिवसीय मैच खेले हैं। हालांकि चोट की वजह से उनका अंतरराष्ट्रीय करियर बाधित हुआ था लेकिन चोट से उबरने के बाद वह लगातार अच्छी फार्म दिखा रहे हैं। भारत के इशांत शर्मा के बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए श्रीलंकाई चयनकर्ता भी यह चाह रहे हैं कि वह किसी युवा तेज गेंदबाज को मौका दें। तेज गेंदबाज धमिका प्रसाद ने श्रीलंका बोर्ड एकादश की तरफ से खेले अभ्यास मैच में भारतीय बल्लेबाजों को परशान किया था। उन्हें खिलाने पर विचार किया जा सकता है। कुलशेखरा पर गाज गिरने की ज्यादा संभावना इसलिए भी है कि वह पहले दो टेस्ट मैचों पिच से अपनी गेंदों में ज्यादा तेजी लाने में असफल रहे हैं ओर शुरुआती ओवरों के अलावा बल्लेबाजों को ज्यादा परशान नहीं कर सके हैं। उनकी गेंदों की गति 114 से 125 किलोमीटर प्रति घंटा की रही है। धमिका प्रसाद ने 2006 में तीन एकदिवसीय मैचों में श्रीलंका का प्रतिनिधित्व किया है और इसके बाद से वह कई बार चोटों से जूझते रहे हैं। पिछले साल वह इंग्लैंड और जिम्बाब्वे का दौरा श्रीलंका ए के साथ कर चुके हैं। श्रीलंका के कप्तान माहेला जयवर्धने को भी अपनी टीम में एक तेज गेंदबाजी की कमी खली। क्योंकि इशांत शर्मा ने इस टेस्ट में 135-140 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से गेंदें फेंकी हैं। जयवर्धने ने कहा- यह एक ऐसा मुद्दा है जिस पर हमें विचार-विमर्श करना चाहिए। हमें लगता है कि ऐसी परिस्थितियों मीडियम पेसर प्रभावी हो सकते हैं। अपने कद के साथ इशांत एक अलग तरह के गेंदबाज हैं। ऐसे पिचों पर वह कुछ अतिरिक्त उछाल पाने में भी सफल हो जाते हैं। हमें एक स्मार्ट पसंद तय करनी होगी। हम चयनकर्ताओं से बात करंगे, हमारी टीम में कुछ विकल्प हैं, देखते हैं कि हम किस पर एकमत होते हैं। अगर दिलहारा फर्नाडो फिट हो जाते हैं तो उन्हें भी एकादश में उतारा जा सकता है। चयनकर्ता इस बात को लेकर उहापोह में हैं कि सबसे सफल तेज गेंदबाज चामिंडा वास को ड्रॉप करं या नहीं। गॉल टेस्ट के दौरान 34 साल के वास की गेंदों की तेजी गायब रही थी। यह अलग बात है कि वह कुछ विकेट लेने में सफल रहे। ओपन वेडोर्ट को भी चयनकर्ता बाहर करने पर विचार कर रहे हैं। लेकिन इसके साथ ही श्रीलंकाई कप्तान यह भी मानते हैं कि अगर वह ओपनिंग बल्लेबाजी में इस तरह से बदलाव करते रहेंगे तो दीर्घकाल में इससे नुकसान हो सकता है। 27 साल के तिलन तुषारा भी तेज गेंदबाजी की नई उम्मीद हैं। उन्होंने 2003 में वेस्टइंडीा के खिलाफ टेस्ट पदार्पण किया था, लेकिन इसके बाद इंग्लैंड दौर के लिए टेस्ट और एकदिवसीय टीमों में जगह नहीं बना सके थे। वह आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी भी करते हैं, जिससे श्रीलंका को निचले क्रम में बल्लेबाजी का विकल्प भी प्रदान कर सकते हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वास और कचचुलशेखरा पर गिर सकचचती है गाज