अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षा मंत्री का आवास घेरंगे प्राइमरी शिक्षक

राज्य का शिक्षा जगत दुखी है। प्राथमिक, माध्यमिक, इंटर कॉलेज से लेकर उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षक-कर्मचारी अपनी समस्याओं और मांगों को लेकर आंदोलन की राह पर हैं। सरकार के कोर आश्वासनों और विभाग के अफसरों के नकारात्मक रवैये से ये गुस्से में हैं। राज्य के प्राथमिक शिक्षकों ने प्रोमोशन समेत अन्य मांगों को लेकर पांच सितंबर को काला बिल्ला लगाकर विरोध करने का निर्णय लिया है। अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के महासचिव ब्रिजेंद्र चौबे ने बताया कि हाइकोर्ट का भी नियुक्ित तिथि से ही ग्रेड वन में प्रोमोशन देने का निर्देश काम नहीं आ रहा है। इस कारण आर-पार की लड़ाई का निर्णय लिया गया है। छह सितंबर को काले झंडे के साथ शिक्षा मंत्री के आवास का घेराव होगा। इसके बाद सात सितंबर से मंत्री आवास पर अनिश्चितकालीन प्रदर्शन होगा। माध्यमिक शिक्षकों का राजभवन पर प्रदर्शन ो माध्यमिक शिक्षकों ने 11 सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन की रणनीति बनायी है। झारखंड माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश संगठन मंत्री गंगा यादव ने कहा कि नौ अगस्त को राजभवन के समक्ष प्रदर्शन के साथ ही आंदोलन शुरू हो जायेगा। इस बार शिक्षक आश्वासन पर नहीं मानेंगे, समस्या समाधान होने तक आंदोलन चलता रहेगा। अलग राज्य बनने के बाद से अब तक एक भी समस्या का समाधान विभाग नहीं कर पाया, उल्टे सेवा शत्र्त नियमावली एवं खराब रिाल्ट को कारण बताकर शिक्षकों को प्रताड़ित किया गया। इंटरकर्मी 15 अगस्त के बाद करंगे आंदोलन इंटर कॉलेजों में पद सृजन की फाइल चार महीने से चक्कर काट रही है। इस कारण अनुदान मिलने के बाद भी इसका वितरण नहीं हो पा रहा है। झारखंड इंटरमीडिएट शिक्षक शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ के संरक्षक रघुनाथ सिंह ने बताया कि शिष्टमंडल कई बार मंत्री-निदेशक से मिला, लेकिन हर बार सिर्फ आश्वासन मिला। अब तक पद सृजन पर विभाग मुहर नहीं लगा सका। इससे इंटरकर्मी गुस्से में हैं। 15 अगस्त के बाद आंदोलन की घोषणा होगी। यूनिवर्सिटी शिक्षकों का आंदोलन नौ से कार्यरत एवं रिटायर शिक्षकों की समस्याओं को लेकर सरकार और यूनिवर्सिटी के नकारात्मक रवैये के खिलाफ झारखंड विवि शिक्षक महासंघ (फुटाज) एवं विवि पेंशनर समाज नौ एवं दस अगस्त को यूनिवर्सिटी कैंपस में अनशन करगा। संयोजक डॉ बबन चौबे के अनुसार 4-6 सितंबर को तीनों यूनिवर्सिटी में 48 घंटे का अनशन होगा। समस्याओं का समाधान नहीं हुआ, तो शिक्षक दिवस समारोह का बहिष्कार होगा। शिक्षक समस्याओं से त्रस्त हैं, लेकिन अधिकारी और मंत्री को इसकी चिंता नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शिक्षा मंत्री का आवास घेरंगे प्राइमरी शिक्षक