DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू में हालात बेकाबू, दो मरे

आंदालन क 36वं दिन जम्मू मं हालात बकाबू हा गए। कश्मीर मं भी हालात बिगड़त जा रह हैं। दानां अमरनाथ जमीन मुद्द पर जल रह हैं। जम्मू मं मंगलवार को व्याप्क हिंसा, पुलिस फायरिंग और आगजनी मं आंदालनकारियां न एक पुलिस चौकी का आग लगा दा पुलिसकर्मियां की जानं ल ली। इसस पहल इन पुलिसकर्मियां न लागां पर गालियां दागी ता 20 स अधिक जख्मी हुए लागां मं दा पत्रकार भी शामिल थ। भीड़ न एक टूरिस्ट बस और दा सरकारी आफिसां का भी फूंक दिया। दा स्थानां पर रल पटरी भी उखाड़ दी।ड्ढr ड्ढr जम्मू का दश स रल संपर्क टूट गया है। जम्मू मंडल क सभी कफ्यरूग्रस्त कस्बां और शहरां मं आंदालनकारियां न सड़कां पर निकल कर विराध प्रदर्शन किए। पुलिस न कई स्थानां पर प्रदर्शनकारियां पर फायरिंग भी की। जम्मू स 40 किमी दूर अखनूर सक्टर मं जौड़ियां पुलिस चौकी का गुस्साई भीड़ न उस समय जला दिया जब तहसील और सीआईडी आफिस का जलान वालां पर फायरिंग की गई। हादस मं दा पुलिसकर्मियां की मौत हा गई तथा कई अन्य जख्मी हा गए। जौड़ियां मं पुलिस फायरिंग मं जा 10 लाग जख्मी हुए उनमं दा पत्रकार भी शामिल हैं। उधर वैष्णा दवी क बस कैम्प कटड़ा मं फंस 25 हजार श्रद्धालुआं की घर वापसी मुश्किल हा गई है। कटड़ा मं 20 स 25 हजार लाग फंस हुए हैं। इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने राज्य में अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए एसएमएस पर रोक संबंधी सरकार के आदेश को सही ठहराया है। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एसएमएस पर रोक हटाने संबंधी हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी। इस बीच हालात पर विचार के लिए प्रधानमंत्री ने बुधवार को नई दिल्ली में सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इधर केन्द्रीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य केन्द्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता और रक्षा सचिव विजय सिंह ने जम्मू में ताजा स्थिति की समीक्षा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जम्मू में हालात बेकाबू, दो मरे