साझा प्रयास से एड्स पर रोकथाम संभव : प्रो.सिंघल - साझा प्रयास से एड्स पर रोकथाम संभव : प्रो.सिंघल DA Image
20 फरवरी, 2020|5:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साझा प्रयास से एड्स पर रोकथाम संभव : प्रो.सिंघल

टेक्सास विश्वविद्यालय, अमेरिका के प्रो.अरविन्द सिंघल ने बताया है कि एचआईवी की समस्या गंभीर है। साझे प्रयास से इसकी रोकथाम संभव है। उन्होंने कहा कि जब इसके प्रसार की जानकारी हो चुकी है तो नियंत्रण की गुंजाइश भी है। हालांकि इस मार्ग में कई चुनौतियां हैं। संवाददाताओं से बातचीत में प्रो.सिंघल ने बुधवार को बताया कि युगांडा इसका उदाहरण है। वहां की सरकार ने एचआईवीएड्स नियंत्रण के लिए सघन जांच अभियान चलाकर प्रसार के ग्राफ को नीचे गिरा दिया।ड्ढr ड्ढr यही स्थिति ब्राजील की है। वहां पर सिटीजन ग्रुप, मीडिया, सरकार और सहायता एजेंसियों के माध्यम से जागरूकता का स्तर काफी ऊंचा बना दिया गया है। हर व्यक्ित के स्वास्थ्य की रक्षा करना सरकार की जिम्मेवारी है। एचआईवी एक ऐसी समस्या है जिस पर खुलकर चर्चा नहीं होती। यौन संक्रमण से फैलनीवाली बीमारी में यौन संबंधों पर बात नहीं होती। संक्रमित होने पर पीड़ित के चरित्र और नैतिकता पर सवाल खड़े किए जाते हैं। अन्य राज्यों से बिहार की तुलना करते हुए प्रो.सिंघल ने बताया कि यहां का हेल्थ इंडिकेटर कमजोर है। एचआईवीएड्स समस्याड्ढr के निदान में राजनैतिक नेतृत्व, मीडिया, बड़ी शख्सियत सामूहिक प्रयास करं तो इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है। इसके पूर्व बिपार्ड और अमेरिका के कन्सूलेट जनरल (अमेरिकन सेंटर) के संयुक्त तत्वावधान में ‘कन्मबैटिंग एड्स: कम्यूनिकेशन स्टट्रेजिज इन एक्शन’ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसका उद्घाटन बिपार्ड के महानिदेशक जी.एस.दत्ता ने किया। इसमें सुश्री करुणा सिंह, प्रो.नीलरत्न, अजय कुमार सिंह सहित 36 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: साझा प्रयास से एड्स पर रोकथाम संभव : प्रो.सिंघल