class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनाधिकार मंच का नौ को रांची बंद

आदिवासी मूलवासी जनाधिकार मंच ने नौ अगस्त को रांची बंद की घोषणा की है। स्थानीय नियोजन नीति को लागू किये बगैर 10 अगस्त को शिक्षक बहाली परीक्षा कराने का मंच ने विरोध किया है। मंच ने कहा कि स्थानीय नीति नहीं बनायी गयी, तो राज्य को जलने से नहीं बचाया जा सकता है।ड्ढr मंच के बैनर तले बुधवार को यहां अलबर्ट एक्का चौक पर मशाल जुलूस-सभा का आयोजन किया गया था, जिसमें बंद की घोषणा की गयी। सभा को संबोधित करते हुए मंच के अध्यक्ष आरपी साहू और शिक्षाविद करमा उरांव ने कहा कि जेपीएससी नोट कमाने की एजेंसी बना दी गयी है। झारखंडी युवाओं को नौकरी से वंचित कर बाहरियों को नौकरी देना मंत्री-विधायकों का मकसद रह गया है। मंच के संयोजक रतन तिर्की और देवकुमार धान ने कहा कि आदिवासियों और मूलवासियों का हक, अधिकार और नौकरी छीनने के प्रयास का विरोध किया जायेगा। सभा में इरशाद इमाम, राजू महतो, मोती कच्छप, सुनील फकीरा, रवि सिंह, अंतु तिर्की, अश्विनी कुमार, स्वप्न महतो, डॉ दुबराज, अनिल, रांीत लोहरा सहित कई लोगों ने अपने विचार रखे। मंच ने 10 अगस्त को होने वाली शिक्षक नियुक्ित परीक्षा रद्द करने, 1े खतियान के आधार पर स्थानीयता तय करने, नियोजन में स्थानीय की परिभाषा का आधार जिला को मानने आदि की मांग की है। हिब्यू

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जनाधिकार मंच का नौ को रांची बंद