अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों की स्थिति बिगड़ने लगी

सूबे में डिरल्ड उच्च शिक्षण व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए छात्र राजद के सदस्यों की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल दूसर दिन भी जारी रही। दो दिनों के बाद भी छात्रों के स्वास्थ्य जांच के लिए टीम नहीं पहुंची और न ही जिला प्रशासन को ही इन छात्रों की सुधि रही। इस स्थिति में छात्रों का आक्रोश गहराने लगा है और उनका कहना है कि संवेदनहीन सरकार के खिलाफ हमारा आंदोलन और तीव्र होगा। साथ ही पटना उच्च न्यायालय द्वारा कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त कराने संबंधी निर्देश पर छात्रों ने कहा कि जब तक विवि खोलने की प्रक्रिया शुरू नहीं हो जाती तब तक भूख हड़ताल जारी रहेगी। वहीं गुरुवार को छात्र राकांपा भी भूख हड़ताल शुरू हो गयी।ड्ढr ड्ढr भूख हड़ताल पर छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष स्वदेश कुमार, प्रधान महासचिव अवधेश कुमार लालू, राजेश कुमार व अजहारुल हक दूसर दिन भी बैठे रहे। इन छात्र नेताओं की स्थिति अब खराब होने लगी है। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा इन लोगों से बात करने भी कोई पदाधिकारी नहीं भेजा गया है। गुरुवार को हड़ताली छात्र नेताओं का उत्साहवर्धन करने राजद के विधान पार्षद तनवीर अहमद पहुंचे। सभा को अवधेश कुमार लालू, धनंजय यादव, अजित शक्ितमान, शक्ित सिंह यादव, देवमुनि सिंह यादव, छोटू सिंह, अरुण यादव आदि ने संबोधित किया। दूसरी तरफ बिगड़ती शैक्षणिक व्यवस्था के विरोध में छात्र राकांपा की भूख हड़ताल शुरू हुई। ठप हुई शैक्षणिक व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रदेश अध्यक्ष दिनेश पटेल, संजय मेहता, हिमांशु पटेल, संजय सिंह यादव, वीरंद्र कुमार छोटू आयकर गोलंबर पर 24 घंटे की हड़ताल पर बैठे। इस संबंध में प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भले ही कर्मचारियों ने हाईकोर्ट के आदेश पर हड़ताल समाप्त करने की घोषणा की हो लेकिन सरकार की उच्च शिक्षानीति छात्रहित में नहीं है और हम इसका विरोध करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों की स्थिति बिगड़ने लगी