अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

असल मौचा तो डग्गामार वाहनों की

ठहराव रोडवे बसों का और मौा डग्गामार वाहनों की। न कोई पकड़ेोाने का खौफ और न ही नियमों की कोई परवाह। सवारी केोीवन से खिलवाड़ व अभद्रता की रोाना शिकायतें। शिकायतों पर कार्रवाई के नाम पर आरटीओ व परिवहन निगम के अफसर सिर्फ एक-दूसर के पाले में गेंद फेंक रहे हैं। यातायात पुलिस ने भी चुप्पी साध रखी है। ऐसे में डग्गामार वाहन रााधानी के ही कई ठहराव से सवारी लेकर परिवहन विभाग को रोाना चूना लगा रहे हैं।ड्ढr पालीटेकि्नक चौराहे से ही रोाना गोंडा, फैााबाद, बहराइच के लिए बगैर लाइसेंस केोीप व बसों का चलनाोारी है। इन्हीं में लखनऊ-गोंडा की नॉन स्टॉप बस सेवा (यूपी-47 बी 181े कंडक्टर से संवाददाता ने पर्ची पर बनाएोा रहे टिकट देने का कारण पूछा। कंडक्टर ने बगर किसी संकोच केोवाब दिया कि उसका निगम से कोई लेना-देना नहीं। बस के मालिक नेोनसेवा के लिए बस लगा रखी है। इस पर परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक अभिनय श्रीवास्तव ने बेबसीोाहिर की। उन्होंने कहा कि हम डग्गामार वाहनों के खिलाफ कार्रवाई के लिए बराबर आरटीओ को लिख रहे हैं। पॉलीटेक्िनक ौसा ही हाल राीडेंसी का है। इसके बगल में ही कैसरबाग बस डिपो का स्थानांतरित बस अड्डा है। रोडवे अफसरों के सामने ही रोाना डग्गामार वाहन सवारियों को उठा रहे हैं। सहकारिता भवन, केकेसी के निकट पेट्रोल पम्प के पास, कताई पुल के पास, इांीनियरिंग कालेा, मरी माता मंदिर व कुड़ियाघाट के पास से भी डग्गामार वाहनों का संचालन धड़ल्ले सेोारी है। इन सभीोगहों पर रोाना सैकड़ों की संख्या में यात्रियों के आने-ााने का क्रमोारी रहने से परिवहन निगम व आरटीओ दोनों को ही राास्व की क्षति हो रही है। यातायात पुलिस का कहना है कि डग्गामार वाहनों के खिलाफ आरटीओ को ही कार्रवाई करने की अधिकार है। आरटीओ अरविन्द पांडे का कहना है कि डग्गामार वाहनों के खिलाफ सोमवार को पालीटेकि्नक से ही अभियान आरंभ होगा। उन्होंने इस बात से साफ इनकार किया कि किसी भीोीप या बस को रााधानी में भी किसी ठहराव स्थल से सवारी उठाने का लाइसेंस दिया गया है।ड्डह्य

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: असल मौचा तो डग्गामार वाहनों की