अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठीक है, अभी घर चााओ पर दिल्ली का लक्ष्य याद रहे

बसपा प्रमुख एवं मुख्यमंत्री मायावती ने राष्ट्रीय पदाधिकारियों और दूसरे रायों से आए वहाँ के प्रदेश अध्यक्षों और प्रभारियों के साथ रविवार को यहाँ एक बैठक की। उन्होंने दूसर रायों में भी यूपी की तरह बसपा का परचम लहराने और केन्द्र की सत्ता पर काबिज होने के लक्ष्य की प्राप्ति में जुटने का निर्देश दिया। उन्होंने पार्टी द्वारा एक सितम्बर से शुरू होने वाले ‘देशव्यापी जनहित चेतना आन्दोलन’ की तैयारी के बार में आवश्यक दिशानिर्देश दिए।ड्ढr पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में शनिवार को बसपा प्रमुख ने महँगाई, बेकारी, गरीबी जैसे मुद्दों पर कांग्रस नीत संप्रग सरकार के खिलाफ देशव्यापी आन्दोलन की घोषणा की थी। यह आन्दोलन तीन चरणों में चलेगा। सबसे पहले एक सितम्बर से 30 सितम्बर तक जिला मुख्यालयों पर आन्दोलन होगा। दूसर चरण में एक अक्तूबर से 31 अक्तूबर तक हर विधानसभा क्षेत्र और तीसर चरण में राय मुख्यालयों में आन्दोलन चलेगा। पार्टी प्रमुख ने सभी रायों में इसकी जोरदार तैयारी करने के लिए कहा है।ड्ढr सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय अधिवेशन खत्म होने के बाद से बसपा प्रमुख ने सभी रायों के साथ अलग-अलग बैठक कर लोकसभा चुनाव की रणनीति पर खासतौर से चर्चा की। जिन पाँच रायों में विधानसभा चुनाव निकट भविष्य में होने है वहाँ के पार्टीजनों के साथ उन्होंने विधानसभा चुनाव की रणनीति पर भी विस्तार से चर्चा की। शेष रायों के संभावित लोकसभा प्रत्याशियों से भी बसपा प्रमुख ने मुलाकात की। संगठनात्मक कामकाज का भी लेखा-जोखा लिया। उन्होंने सभी रायों में यूपी की तरह सर्वसमाज को जोड़ने की कोशिश करने के लिए भी कहा। उन्होंने यूपी में बसपा सरकार की ‘सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय’ की नीति का राष्ट्रीय स्तर से लेकर दूसर रायों में व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार करने की भी आवश्यकता जताई।ड्ढr उधर, अधिवेशन की व्यवस्था में जुटे नेता रविवार को भी लोगों को वापस भेजने के काम में जुटे रहें। जाने से पहले इन लोगों ने बसपा प्रमुख से भेंट की। पार्टी नेताओं के अनुसार दूसर रायों से आए से पचास हजार लोगों में से करीब छह हजार लोगों का अंतिम जत्था देर रात वापस चला गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ठीक है, अभी घर चााओ पर दिल्ली का लक्ष्य याद रहे