class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत में 25 फीसदी लोग मानसिक बीमारी के शिकार

शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ने कहा कि मानसिक रोगों को लेकर कई तरह की भ्रांतियां हैं। इसे जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से दूर किया जा सकता है। नशा विमुक्ित के लिए विशेष कार्यक्रम चलाने की आवश्यकता है। शिक्षा मंत्री स्वयं सेवी संस्था स्पर्श द्वारा आयोजित मेंटल हेल्थ अवेयरनेस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। रिम्स में आयोजित इस सेमिनार में सीआइपी के निदेशक डॉ एस हक निजामी ने कहा कि पूर भारत में 25 प्रतिशत लोग मानसिक बीमारी से त्रस्त हैं। आधुनिक तरीके से इन समस्याओं का इलाज किया जा सकता है। आवश्यकता है, लोगों में जागरूकता लाने की। सीआइपी के मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ देवव्रत कुमार, डॉ इंदू दुबे, डॉ कौशिक गोस्वामी ने भी विचार रखे। पेंटिंग और क्िवज प्रतियोगिता भी आयोजित की गयी। विजेताओं को शिक्षा मंत्री ने पुरस्कार दिये। संस्था के निदेशक दिलीप गुप्ता की ओर से मानसिक रोगों के कारण, भ्रम और इसके निवारण से संबंधित डॉक्यूमेंट्री फिल्म दिखायी गयी। कार्यक्रम को सफल बनाने में आशीष रांन, जितेंद्र शर्मा, मोइन अंसारी, पंका गुप्ता आदि का योगदान रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत में 25 फीसदी लोग मानसिक बीमारी के शिकार