अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुर्सी न छोड़ने पर अडिग

सत्तारूढ़ गठबंधन द्वारा महाभियोग लगाए जाने की घोषणा पर बचाव के लिए अपने अमेरिकी मित्रों से निराश होकर राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने अब सऊदी प्रशासन को ‘त्राहिमाम्’ संदेश भेजा है। सूत्रों ने सोमवार को बताया, ‘यह संदेश इस्लामाबाद स्थित एक वरिष्ठ सऊदी राजनयिक के माध्यम से भेजा गया है।’ हालांकि सूत्र ने यह भी बताया कि राष्ट्रपति को जो वहां से प्रतिक्रिया मिली है वह ‘बहुत सकारात्मक नहीं’ है। सूत्र ने बताया कि सऊदी प्रशासन ने हालांकि अपने एक वरिष्ठ अधिकारी को महाभियोग के मद्देनजर उपजी परिस्थितियों के प्रारंभिक आकलन के लिए इस्लामाबाद भेजा है। इस्लामाबाद की घटनाओं पर गुप्त नजर रखे सूत्र ने बताया कि निजी छुट्टी पर घर गए पाकिस्तान में सऊदी राजदूत अली अवध असेरी भी छुट्टी में कटौती कर जल्द ही इस्लामाबाद लौट रहे हैं। 1में तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का तख्ता पलट कर सत्ता पर कब्जा करने के बाद मुशर्रफ ने तब शरीफ को भी सऊदी अरब ही निर्वासन में भेज दिया था। सूत्रों ने बताया कि अब शायद सऊदी अरब पाकिस्तान की आंतरिक राजनीति से अपने को दूर रखना चाहेगा, क्योंकि देश के इतिहास में शरीफ प्रकरण के बाद पहली बार मीडिया और सिविल सोसाइटी ने सऊदी भूमिका पर आवाज तेज कर दी थी। सूत्र ने बताया, ‘जहां तक मुझे ज्ञात है इस्तीफा देने की सूरत में मुशर्रफ को संभवत: सऊदी अरब में स्थायी आवास का ऑफर दिया गया है। शायद सऊदी उनके लिए मानवीय प्रबंध कर बजाये इसके कि पाकिस्तान में उन्हें जलालत और बड़े आरोप झेलने को छोड़ा जाए।’ उधर, मुशर्रफ क खिलाफ महाभियोग चलान क लिए पीपीपी और पीएमएल-एन की एक स्ांंयुक्त समिति न 100 पृष्ठों का आठ सूत्रीय आरोप पत्र तैयार किया है, लकिन वह काम को पूरा करन क लिए और समय चाहती है। सोमवार को सूचना मंत्री शेरी रहमान क आवास पर समिति की बैठक हुई। सूत्रों क हवाल स समाचार पत्र ‘द न्यूज’ न लिखा है कि आठ सूत्रीय एजंेडे मंे 12 अक्टूबर 1ो तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलटन, पिछल साल तीन नवंबर को संविधान स्थगित करन और सर्वोच्च न्यायालय व अन्य न्यायालयों क न्यायाधीशों को बर्खास्त करने के मामले शामिल हैं। न तोहफ न बधाई : मुशर्रफ क 65वें जन्मदिन पर सोमवार को राष्ट्रपति भवन में न फूलों का गुलदस्ता पहुंचा न बधाई संदेश। सत्तारूढ़ गठबंधन की ओर से की जा रही महाभियोग लगान की तैयारियों के चलते मुशर्रफ अनिश्चितता से घिर हुए हैं। मुशर्रफ शायद ही अपने इस जन्मदिन को कभी भूल पाएंगे, क्योंकि सोमवार को ही नेशनल असेंबली और प्रांतीय असंबलियों में उनके खिलाफ महाभियोग संबंधी कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू हुई। जनता के सामने जवाब दूंगा : मुशर्रफ ने सत्तारूढ दलों द्वारा उनके खिलाफ महाभियोग लाए जाने की तैयारियों के बीच बेखौफ कहा कि वह जनता के सामने इन आरोपों का खुलकर जवाब देंगे। वहीं, मुशर्रफ क प्रवक्ता न कहा है कि अमेरिका से मिलने वाली करोड़ों डॉलर की सहायता राशि का मुशर्रफ ने दुरुपयोग नहीं किया। अमेरिका में 11 सितंबर के आतंकी हमले के बाद पाक को सैन्य सहायता के तौर पर करोड़ों डॉलर की रकम दी गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कुर्सी न छोड़ने पर अडिग